1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मालदीव पर दुनिया की नजरें

पिछले साल से राजनीतिक संकट में फंसे दक्षिण एशियाई देश मालदीव में चुनाव होने वाले हैं. अमेरिका औऱ संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि चुनाव निष्पक्ष होने चाहिए. पूर्व राष्ट्रपति नशीद इन दिनों भारत की शरण में हैं.

विद्रोह के बाद पिछले साल सत्ता छोड़ने वाले और जलवायु परिवर्तन के खिलाफ प्रमुखता से आवाज उठाने वाले मुहम्मद नशीद ने गिरफ्तारी के डर से भारतीय दूतावास में शरण ले ली है. इस घटनाक्रम के बाद छोटा सा द्वीपसमूह मालदीव एक बार फिर दुनिया भर की नजरों में है. जलवायु परिवर्तन से बुरी तरह प्रभावित मालदीव साल भर से राजनीतिक संकट से जूझ रहा है.

अमेरिका की विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता विक्टोरिया नूलैंड ने कहा, "हम सभी पक्षों से अपील करते हैं कि वे शांत रहें, हिंसा में शामिल न हों और ऐसी कार्रवाई न करें, जिससे तनाव बढ़ सकता है."

संयुक्त राष्ट्र ने भी ऐसा ही बयान दिया है. महासचिव बान की मून ने सभी पक्षों से संयम बरतने की अपील की है "ताकि शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव के लिए माहौल" बनाया जा सके.

Malediven neuer Präsident Waheed Hassan

मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद वहीद

सागर के जलस्तर बढ़ने के साथ धीरे धीरे डूबते देश मालदीव के पहले लोकतांत्रिक राष्ट्रपति नशीद को अदालत में पेश होना था. ऐसा नहीं कर पाने के बाद गिरफ्तारी के डर से वह बुधवार को भारतीय दूतावास में पहुंच गए. कुछ दिनों पहले विकिलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज ने भी लंदन में ऐसा ही किया था, जब वह इक्वाडोर के दूतावास में चले गए. वे अभी भी वहीं हैं.

नशीद पर आरोप है कि राष्ट्रपति रहते हुए उन्होंने सत्ता का गलत इस्तेमाल किया, जबकि उनका कहना है कि आरोप राजनीति से प्रेरित हैं. नशीद का दावा है कि अगर उन्हें इस तरह के मामलों में दोषी साबित कर दिया जाएगा, तो फिर उनकी पार्टी मालदीवियन डेमोक्रैटिक पार्टी को सितंबर के चुनाव में शामिल नहीं होने दिया जाएगा.

यूएन महासचिव बान ने कहा, "सात सितंबर वाले राष्ट्रपति चुनाव में शमिल सभी पार्टियों को संविधान के मुताबिक अपने पसंद का उम्मीदवार खड़ा करने की छूट होनी चाहिए."

अमेरिका ने बार बार कहा है कि चुनावों में निष्पक्षता होनी चाहिए. बान की ही तरह नूलैंड ने कहा, "सभी पार्टियों के पास इस बात का अधिकार होना चाहिए कि वे अपने पसंद वाले उम्मीदवार को चुनाव में आगे कर सकें."

Renate Reinstaller, a tourist from Meran, Italy, walks a beach at the Baros Resort Island in the Maldives Saturday, Jan. 15, 2005. With French charter flights likely to resume soon and Italy lifting a warning against travel to the Indian Ocean archipelago, authorities are hoping that the balm of tourism would ease the impact of the Dec. 26 tsunami on Maldives. (ddp images/AP Photo/Ed Wray)

समुद्र का जलस्तर बढ़ने से परेशान मालदीव

पिछले साल कई हफ्तों तक सरकार विरोधी प्रदर्शन के बाद पुलिस ने विद्रोह कर दिया था. इसके बाद नशीद को इस्तीफा देना पड़ा. करीब सिर्फ तीन लाख की आबादी वाला मालदीव अपने खूबसूरत रिसॉर्ट और होटलों के लिए जाना जाता है. इसे दुनिया के प्रमुख हनीमून केंद्रों में गिना जाता है.

अमेरिका के साथ नशीद के अच्छे रिश्ते रहे हैं और वह बार बार वहां का दौरा करते रहे हैं. लेकिन जब अमेरिका ने उनके बाद राष्ट्रपति बने मुहम्मद वहीद के साथ मिल कर काम करने और नशीद को वहीद के साथ सुलह करने की सलाह दी, तो नशीद ने अमेरिका विरोधी बयान भी दिए.

बाद में राष्ट्रसंघ के सहयोग से हुए एक जांच में तय पाया गया कि नशीद को सत्ता से हटाया नहीं गया है, बल्कि उन्होंने अपनी मर्जी से इस्तीफा दिया है. नशीद ने इस जांच को स्वीकार कर लिया है.

मालदीव सरकार का कहना है कि नशीद चाहें तो भारतीय दूतावास से बाहर निकल सकते हैं और उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाएगा क्योंकि गिरफ्तारी वारंट की मियाद निकल चुकी है.

एजेए/ओएसजे (एएफपी)

DW.COM

WWW-Links