1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

माराडोना बन सकते हैं इराक के कोच

कभी फुटबॉल के देवता समझे जाने वाले डिएगो माराडोना वर्ल्ड कप से पहले इराक के कोच बन सकते हैं. उनके एजेंट ने कहा है कि वे इराक को 2014 में ब्राजील में होने वाले वर्ल्ड कप में फाइनल तक ले जाना चाहते हैं.

माराडोना इस समय संयुक्त अरब अमीरात के क्लब अल वस्ल के सलाहकार हैं. पहले वे इस क्लब के कोच थे. उनके अर्जेंटीनी एजेंट हर्नान टोफोनी के अनुसार अब माराडोना को इराक फुटबॉल फेडरेशन की बैठक का इंतजार है. फेडरेशन शुक्रवार को राष्ट्रीय कोच की खाली जगह को भरने के बारे में फैसला कर रहा है.

अर्जेंटीना की वर्ल्ड एलेवन कंपनी के लिए इराकी अधिकारियों से बातचीत कर रहे टोफोनी ने कहा, "डिएगो सचमुच उत्साहित हैं, और हमें हर दिन फोन कर रहे हैं. वे सिर्फ अगले छह महीने के लिए ही इराक को कोच नहीं करना चाहते, बल्कि लंबे समय के लिए."

टोफोनी के अनुसार माराडोना इस बात से बहुत उत्साहित हैं कि यह एक चुनौती है और वे जीको की जगह लेने जा रहे हैं. जीको ब्राजील के महान खिलाड़ी रहे हैं और पिछले ही महीने उन्होंने इराक के कोच के पद से इस्तीफा दिया है.

टोफोनी फीफा के रजिस्टर्ड एजेंट हैं. उनका कहना है कि उन्होंने माराडोना का नाम मेज पर तब रखा जब इराक ने वर्ल्ड एलेवन से एक अर्जेंटीनी कोच की तलाश में संपर्क किया. टोफोनी के अनुसार इराकी अधिकारियों को उनका विचार पसंद आया. उनका कहना है कि माराडोना को अल वस्ल छोड़ने में कोई दिक्कत नहीं होगी.

इराक की टीम एक बार वर्ल्ड कप फाइनल में खेली है. 1986 में मेक्सिको में हुए वर्ल्ड कप में इराक ने हिस्सा लिया था जहां माराडोना ने अर्जेंटीना की टीम का नेतृत्व किया था. फुटबॉल इतिहास के महान खिलाड़ियों में शामिल 52 वर्षीय माराडोना का कोच के रूप में सामान्य रिकॉर्ड रहा है. उन्होंने 2010 मे वर्ल्ड कप में अर्जेंटीना की टीम का नेतृत्व किया था लेकिन टीम क्वार्टर फाइनल में जर्मनी से 4-0 से हार गई थी.

एमजे/एनआर (रॉयटर्स)

DW.COM

WWW-Links