1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

माधुरी के साथ का सच हुआ सपना

रणबीर कपूर के लिए माधुरी दीक्षित के साथ काम करना सपने के सच होने जैसा था. नई फिल्म ये जवानी है दीवानी के प्रमोशन के लिए कोलकाता आए रणबीर ने अपने जीवन और करियर पर डीडब्ल्यू से बात की.

डीडब्ल्यूः इस फिल्म में आपने अपनी पूर्व प्रेमिका दीपिका पादुकोण के साथ काम किया है. कैसा रहा यह अनुभव?

वर्ष 2008 में बचना ए हसीनों के समय हम दोनों नए थे. उस समय हमारे बीच करीबी संबंध भी थे लेकिन इस फिल्म में हमने पेशेवर कलाकारों के तौर पर काम किया है. हमारे रिश्ते पेशेवर हैं और हमने अतीत को कभी इस पर हावी नहीं होने दिया. दीपिका बेहद मेहनती और प्रतिभाशाली अभिनेत्री हैं. मुझे उन पर गर्व है. मैं और दीपिका हमेशा दोस्त रहे हैं और रहेंगे. इस फिल्म में काम करने का अनुभव बेहद सुखद और संतोषजनक रहा.

पहले प्यार के बाद दोस्ती के रिश्ते को कैसे परिभाषित करेंगे ?

देखिए, जीवन चलने का नाम है. कुछ भी हो जाए आगे बढ़ना ही पड़ता है. किसी एक जगह अटकना उचित नहीं है. खासकर अभिनय के पेशे में तो यह और जरूरी है. पूर्व प्रेमिका के साथ काम करने का एक बेहतर पहलू यह है कि आप उसके बारे में सब कुछ जानते हैं. इसलिए छिपाव-दुराव की समस्या नहीं होती. ऐसे में कलाकार खुल कर बेहतर अभिनय कर पाता है.

आपका अब तक का सफर कैसा रहा है ?

बेहद शानदार. मुझे पता ही नहीं चला कि यह पांच-छह साल कैसे बीत गए. मेरी नौ फिल्में भी आ गईं. इस दौरान मुझे अनुराग बसु और अयन मुखर्जी समेत कई प्रतिभाशाली निर्देशकों के साथ काम करने का मौका मिला. मुझे सही समय पर सही मौके मिले और मैंने उनका भरपूर लाभ उठाया. अब तक का यह सफर मेरे लिए बेहद संतुष्टि वाला रहा है.

इस नई फिल्म में आपकी भूमिका कैसी है ?

ये जवानी है दीवानी में मेरी भूमिका अब तक की तमाम भूमिकाओँ से अलग है. मुझे यह कहने में कोई हिचक नहीं है कि इस किरदार के लिए मुझे पहले की भूमिकाओं के मुकाबले काफी मेहनत करनी पड़ी है. अब मेरी मेहनत कैसी रही, यह तो दर्शक ही बता सकते हैं. लेकिन मैं अपनी भूमिका और मेहनत से संतुष्ट हूं.

अयन मुखर्जी के साथ आपकी यह दूसरी फिल्म है. उनके साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा ?

अयन बेहतरीन निर्देशक के साथ एक बढ़िया इंसान भी हैं. उनके साथ काम करने का अनुभव बहुत अच्छा रहा. उन्होंने मेरे अभिनय और जीवन में कई नए आयाम जोड़ दिए हैं.

फिल्म में माधुरी दीक्षित के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा ?

यह किसी सपने के सच होने जैसा था. वह मेरी सबसे पसंदीदा अभिनेत्री हैं. मैं बचपन से उनको काम करते देखता रहा हूं. तब अपने पिता के साथ शूटिंग पर जाता था. अब उनके साथ काम करना बेहद रोमांचक रहा. फिल्म की शूटिंग के दौरान उनसे काफी कुछ सीखने को मिला. इनमें सबसे अहम बात यह थी कि वह अपने निजी और पेशेवर जिंदगी में संतुलन कैसे कायम रखती हैं.

आपका पूरा परिवार फिल्मी है. क्या घर पर भी हमेशा फिल्मों के बारे में ही चर्चा होती है ?

हां, ऐसा ही है. पिछले लगभग 85 वर्षों से भारतीय सिनेमा में मेरे परिवार का योगदान अहम रहा है मुझे मात-पिता ने पूरी छूट दी है. वह हमेशा मेरे फैसलों का समर्थन करते हैं और मुझ पर कभी अपनी राय नहीं थोपते. मां मेरी सबसे बड़ी प्रशंसक हैं और पिता सबसे बड़े आलोचक. मेरे पिता सामने कभी मेरे अभिनय की सराहना नहीं करते. वह हमेशा बेहतर काम करने के लिए प्रेरित करते रहते हैं.

प्रभाकर, कोलकाता

DW.COM

संबंधित सामग्री