1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

माजदा का क्रांतिकारी इंजन बनाने का दावा

जापानी ऑटोमोबाइल कंपनी माजदा ने इंजन में बड़ी खोज करने का दावा किया है. कंपनी के मुताबिक उसका नया इंजन किफायत के मामले में सबको पीछे छोड़ देगा.

माजदा मोटर कॉर्प के मुताबिक वह बेहद किफायती इंजन बनाने वाली दुनिया की पहली कंपनी बनने जा रही है. दुनिया भर की कार कंपनियां दशकों से इंजन को ज्यादा बेहतर बनाने की कोशिश में लगी हैं. लेकिन माजदा का दावा है कि सफलता उसके हाथ लगी है. यह दावा ऐसे वक्त में सामने आया है जब ज्यादातर ऑटो निर्माता इलेक्ट्रिक इंजन की तरफ रुख कर रहे हैं.

माजदा के मुताबिक उसका नया कंप्रेशन इग्निशन इंजन 20 से 30 फीसदी तेल बचाता है. डायम्लर, बीएमडब्ल्यू, फोक्ल्सवागेन, जनरल मोटर्स, टोयोटा और ह्युंदै जैसी कंपनियां सालों से ऐसी तकनीक खोजने में जुटी हैं. रिसर्च और डेवलपमेंट में इन दिग्गज कंपनियों के मुकाबले माजदा का बजट काफी कम है. लेकिन इसके बावजूद कंपनी ने दावा किया है कि नये इंजन वाली कारें 2019 से बिकने लगेंगी.

माजदा रिसर्च एंड डेवलपमेंट डिपार्टमेंट के प्रमुख कियोशी फुजिवारा कहते हैं, "इलेक्ट्रिफिकेशन जरूरी है लेकिन इंटरनल कम्बशन इंजन पहली प्राथमिकता है." मौजूदा इंजनों में स्पार्क प्लग के सहारे पेट्रोल और डीजल को जलाया जाता है. एक बार ईंधन के सुलगने के बाद इंजन के सिलेंडर के भीतर तापमान बेहद ज्यादा रहना चाहिए. अगर तापमान गिरा तो ईंधन ठीक से नहीं जलेगा और इंजन हिचकोले खाएगा. माजदा का दावा है कि उसने पेट्रोल और डीजल इंजन की तकनीक को मिलाकर पेट्रोल को बेहतर तरीके से धधकाने का तरीका खोज निकाला है. कंपनी के मुताबिक उसका स्काईएक्टिव-एक्स इंजन बेहद कम तापमान में भी ईंधन को जलाएगा.

माजदा ने साफ किया है कि वह नई तकनीक को किसी और कार कंपनी के साथ साझा नहीं करेगी. कंपनी फिलहाल इंजन को स्मूद बनाने पर काम कर रही है. कंपनी को उम्मीद है कि बहुत कम प्रदूषण करने वाला उसका नया इंजन पेट्रोल और डीजल कारों को नया जीवन देगा.

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM