1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

माइक्रोसॉफ्ट ने पेश किया इंटरनेट एक्सप्लोरर 9

दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने इंटरनेट एक्सप्लोरर 9 बाजार में उतारा है. साल भर के भीतर यह दूसरा मौका है जब माइक्रोसॉफ्ट ने नया ब्राउजर पेश किया है. नया एक्सप्लोरर इंटरनेट के चेहरा बदल सकता है.

default

मोजिला फायरफॉक्स, गूगल क्रोम और सफारी के ब्राउजरों से मिल रही कड़ी टक्कर को देखते हुए माइक्रोसॉफ्ट को इंटरनेट एक्सप्लोरर IE9 उतारना पड़ा. IE9 माइक्रोसॉफ्ट की साइट्स से डाउनलोड किया जा सकता है. बीटा फॉरमेट वाले एक्सप्लोरर 9 को 30 भाषाओं में पेश किया गया है.

माइक्रोसॉफ्ट के एक्जीक्यूटिव डीन हाकामोविच के मुताबिक IE9 अन्य ब्राउजरों के मुकाबले काफी तेज और विवधताओं वाला है. यह पहला ब्राउजर है जो वेबसाइट्स को यूजर्स के फोकस में रखेगा. हाकामोविच कहते हैं, ''वेब का मतलब वेबसाइट्स है. आपके ब्राउजर का भी यही मतलब होना चाहिए. IE9 आपको और आपकी वेबसाइट को ब्राउजिंग के दौरान केंद्र पर रखता है.''

IE9 की खास बात यह है कि इसमें ड्रैग एंड ड्रॉप की सुविधा है. यूजर्स जिन वेबसाइट्स को ज्यादा इस्तेमाल करते हैं उन्हें ड्रैग करके स्क्रीन के नीचे टास्क बार में ला सकते हैं. ब्राउजर पर आने वाले कई तरह के विकल्पों को कम किया गया है.

माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि IE9 वेबसाइट्स तक तेजी से पहुंचाएगा. कंपनी के मुताबिक विंडोज-7 के साथ यह बेहतरीन ढंग से काम करेगा. विस्टा में भी यह चलेगा. लेकिन जिन लोगों का ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज एक्सपी है वह IE9 इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे.

IE9 को देखते हुए 70 बड़ी वेबसाइट्स ने अपने डिजाइन में बदलाव कर दिए हैं. इनमें फेसबुक, ई-बे, सीएनएन और अमेजोन शामिल हैं. 10 साल पहले ब्राउजिंग बाजार का 90 फीसदी हिस्सा माइक्रोसॉफ्ट के पास था. लेकिन बीते कुछ बरसों में गूगल और मोजिला जैसी कंपनियों ने माइक्रोसॉफ्ट को कड़ी टक्कर दी. अब माइक्रोसॉफ्ट की बाजार में 60 फीसदी हिस्सेदारी है. माइक्रोसॉफ्ट के अधिकारियों को उम्मीद है कि IE9 बीते स्वर्णिम दिन लौटा देगा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ ओ सिंह

संपादन: ए कुमार

DW.COM

WWW-Links