1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

माइक्रोसॉफ्ट का नया सरफेस टैबलेट

माइक्रोसॉफ्ट सॉफ्टवेयर निर्माता का लेबल उतार कुछ नया करना चाहता है. उपकरणों और सेवाओं के जरिए नए ग्राहकों को लुभाने में जुटी कंपनी एक नई पहचान बनाने की कोशिश में है.

माइक्रोसॉफ्ट का सरफेस बाजार में बेहद सफल रहा और कंपनी अब जल्द ही इसका उत्तराधिकारी पेश करना चाहती है. 23 सितंबर को कंपनी न्यूयॉर्क में अपना नया गैजेट पेश करने जा रही है. सरफेस आरटी के कई आलोचक इससे इसलिए परेशान थे क्योंकि इसका प्रॉसेसर एआरएम तकनीक पर बना था जो बहुत अच्छा नहीं माना जाता और जो काफी धीमे चलता है. हालांकि सरफेस प्रो में प्रॉसेसर और बैटरी, दोनों ही काफी पसंद किए गए. इस कंप्यूटर में खास बात यह है कि वह टैबलेट और लैपटॉप, दोनों की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है. इस उपकरण के जरिए माइक्रोसॉफ्ट एप्पल को टक्कर देने की कोशिश कर रहा है. सरफेस में विंडोज 8 ऑपरेटिंग सिस्टम है जो छूने से चलता है.

सरफेस की नई पीढ़ी कैसी होगी, कहना मुश्किल है लेकिन विश्लेषकों का मानना है कि इनमें हैसवेल प्रॉसेसर का इस्तेमाल होगा जिससे ऊर्जा की बचत होगी, यानी बैटरी को रीचार्ज करने की कम जरूरत पड़ेगी. यह भी माना जा रहा है कि नए सरफेस में विंडोज 8.1 लगाया जाएगा जो अक्टूबर में लॉन्च होने जा रहा है. अभी से पुराने सरफेस आरटी का दाम करीब 500 डॉलर से घटकर 349 डॉलर हो गया है.

माइक्रोसॉफ्ट बाजार में अपनी छवि तेजी से बदलना चाहता है. बढ़ती प्रतिस्पर्धा की वजह से वह गूगल और एप्पल के पीछे हो गया है. कंपनी के प्रमुख स्टीव बॉलमर ने समय से पहले अपनी नौकरी से रियाटर होने का फैसला लिया है और कंपनी ने हाल ही में सेलफोन बनाने वाली कंपनी नोकिया को खरीद लिया है. 7.2 अरब डॉलर की डील के जरिए माइक्रोसॉफ्ट मोबाइल बाजार में भी अपनी पहचान बनाना चाहता है. माना जा रहा है कि बॉलमर के पद से हट जाने के बाद नोकिया के प्रमुख रहे स्टीफन एलोप को ही माइक्रोसॉफ्ट का प्रमुख बनाया जाएगा. एलोप नोकिया जाने से पहले माइक्रोसॉफ्ट में थे.

बॉलमर 2000 में माइक्रोसॉफ्ट के प्रमुख बने. वह माइक्रोसॉफ्ट शुरू करने वाले बिल गेट्स के पुराने दोस्त हैं और दोनों ने 1970 के दशक में हार्वर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ाई की. 2000 में माइक्रोसॉफ्ट बाजार में कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का सम्राट था लेकिन हाल के दिनों में स्मार्टफोन और टैबलेट बिजनेस की वजह से कंपनी थोड़ा पीछे चली गई है.

रिपोर्टः एमजी/एनआर(एएफपी, डीपीए)

DW.COM

WWW-Links