1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

महंगी होगी लखटकिया नैनो

दुनिया भर में लखटकिया कार के नाम से मशहूर नैनो की कीमत अब थोड़ी सी बढ़ने वाली है. कार पर आने वाली ज्यादा लागत की वजह से टाटा मोटर्स ने तुरंत नैनो के दाम बढ़ाने का फैसला किया है.

default

अब लखटकिया नहीं रहेगी नैनो

कंपनी ने शुक्रवार को एलान किया कि नैनो के दामों में तीन से चार प्रतिशत का इजाफा होगा. इसका मतलब है कि नए ग्राहकों को यह कार अब 3,700 से 6,894 रुपये महंगी पड़ सकती है. टाटा ने पहली एक लाख बुकिंग्स के लिए जून महीने तक 45,129 कारें बनाकर दे दी हैं. नैनो को बुक कराने वाले जो लोग इन एक लाख बुकिंग्स में नहीं आते हैं, उन्हें कंपनी ने बताना शुरू कर दिया है कि उनकी कार कुछ महंगी पड़ेगी.

कंपनी ने कहा है कि इन एक लाख ग्राहकों को उनकी कार 1.23 से 1.72 लाख रुपये की घोषित कीमत पर ही मिलेगी. इन लोगों को जल्द से जल्द दुनिया की सबसे सस्ती कार की डिलीवरी कर दी जाएगी. नए ग्राहक भी कार खरीद सकते हैं लेकिन कुछ ज्यादा दाम देकर.

कंपनी ने अपने बयान में कहा है, "कार पर आने वाली लागत में अत्यधिक वृद्धि के बावजूद टाटा नैनो के दाम में मॉडल के मुताबिक सिर्फ तीन से चार प्रतिशत का इजाफा किया जा रहा है." खासकर स्टील और रबड़ जैसी चीजों के दाम बढ़ने से कंपनी को नैनो की कीमत बढ़ाने के लिए मजबूर होना पड़ा है.

वैसे जनवरी से ऑटोमोबाइल के दामों में चार बार इजाफा हो चुका है. अशोक लिएलैंड, हीरो होंडा, बजाज ऑटो और जनरल मोटर्स ने पहले ही दाम बढ़ाने की घोषणा कर दी है. टाटा मोटर्स ने भी अपने कमर्शल वेहिकल के दाम बढ़ा दिए हैं. मारुति सुजुकी और टोएटा किर्लोसकर जैसी कंपनियां भी बढ़ी हुई लागत से निपटने के विकल्पों पर विचार कर रही हैं.

टाटा मोटर्स का कहना है कि उसके साणंद प्लाट में अब सालाना ढाई लाख गाड़ियां बन रही हैं. इस तरह इस प्लांट ने निर्धारित समय से पहले ही काम करना शुरू कर दिया है. इसीलिए कंपनी नैनो का उत्पादन तेज करने बारे में सोच रही है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः वी कुमार