1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

महंगी हुई प्राकृतिक गैस, बढ़ेंगे सीएनजी के दाम

भारत में सरकार ने प्राकृतिक गैस के दाम बढ़ाकर दोगुने से भी ज्यादा कर दिए हैं जिसके कारण बिजली और खाद उत्पादन की लागत बढेगी और सीएनजी के दामों भी इजाफा होगा. अब प्राकृतिक गैस के दाम 4.20 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू हो गए हैं.

default

सूचना और प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी ने बताया कि कैबिनेट ने बिजली, खाद और शहरी गैस परियोजनाओं को दी जाने वाली गैस के दाम 3,200 रुपये प्रति हजार घन मीटर (1.79 डॉलर प्रति मिलियन ब्रिटिश थर्मल यूनिट) से बढ़ाकर 6,818 रुपये प्रति हजार घन मीटर (3.818 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू) कर दिए हैं. रॉयल्टी को मिलाकर औद्योगिक इस्तेमाल के लिए गैस के दाम 7,500 रुपये प्रति हजार घन मीटर यानी 4.2 डॉलर एमएमबीटीयू पड़ेंगे.

तेल मंत्रालय के संयुक्त सचिव अपूर्व चंद्रा ने बताया गैस के दाम बढ़ाने के फैसले को आने वाले कुछ दिनों में अधिसूचित करने के बाद लागू कर दिया जाएगा और इससे चलते खाद उत्पादन पर लागत, बिजली उत्पादन का खर्च और सीएनजी के दामों में वृद्धि होगी.

Straßenverkehr Chaos in Indien

महंगी होगी सीएनजी

खाद के दाम नहीं बढ़ेंगे क्योंकि सरकार इस क्षेत्र को सब्सिडी देती है. लेकिन सरकार को अपनी सब्सिडी में साढ़े तीन हजार करोड़ रुपये का इजाफा करना होगा. वहीं प्राकृतिक गैस के दाम बढ़ने से बिजली उत्पादन पर खर्च में पौने तीन प्रतिशत का इजाफा होगा तो दिल्ली जैसे शहरों में सीएनजी के दाम बीस प्रतिशत बढ़ जाएंगे. अभी दिल्ली में सीएनजी के दाम प्रति किलो 21.90 रुपये हैं.

सरकार का कहना है कि तेल कंपनियों को हो रहे घाटे को देखते हुए गैस के दाम बढाए गए हैं. सोनी ने बताया, "ओएनजीसी और ऑइल को अपने गैस के बिजनेस में काफी घाटा हो रहा है. गैस के मौजूदा कम दामों के कारण राष्ट्रीय तेल कंपनियां इस क्षेत्र में निवेश नहीं कर पा रही थी. ऐसे में गैस के दाम बढ़ाना जरूरी हो गया."

चंद्रा के मुताबिक प्राकृतिक गैस के दाम बढ़ाने से ओएनसीजी को 6 से 7 हजार करोड़ रुपये का ज्यादा राजस्व मिलेगा तो ऑइल को सात से आठ सौ करोड़ रुपये की अधिक आमदनी होगी. बढ़े हुए दाम 31 मार्च 2014 तक के लिए हैं. तब तक रिलायंस इंडस्ट्री को केजी-डी6 बेसिन से निकलने वाली गैस को प्रति एमएमबीटीयू 4.2 डॉलर में बेचने की अनुमित दी गई है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः ओ सिंह

संबंधित सामग्री