1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

महंगाई के खिलाफ आज भारत बंद

विपक्षी दलों के भारत बंद से एक दिन पहले केंद्र सरकार ने ईंधन की कीमतों में कटौती की संभावना से इंकार किया है. विपक्षी एनडीए ने आज मंहगाई और मुद्रास्फ़ीति के ख़िलाफ़ भारत बंद का एलान किया है.

default

कारोबारी संगठन एशोचैम के एक समारोह में भाग लेने कोलकाता गए भारतीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने कहा कि सरकार की पेट्रोलियम क़ीमतें बढ़ाने का फ़ैसला वापस लेने की कोई योजना नहीं है. भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा ब्याज दरों में वृद्धि के फैसले को वित्त मंत्री ने उचित और स्वागत योग्य कदम बताया है. उन्होंने कहा कि जहां तक ब्याज दरों का सवाल है, रेपो और रिवर्स रेपो

BJP Politiker Indien

रेट में 25 आधार अंकों की बढ़ोत्तरी उचित और स्वागत योग्य कदम है.

उधर एनडीए के कार्यकारी प्रमुख लालकृष्ण आडवाणी ने आज भारत बंद की तैयारी पर घटक दलों के नेताओं के साथ चर्चा की. भेंट के बाद आडवाणी ने कहा कि भारतीय राजनीति के इतिहास में संभवतः पहला मौका होगा जब सभी राजनीतिक दल भारत बंद में भाग लेंगे. एनडीए के अलावा वामपंथी दलों ने भी भारत बंद का आह्वान किया है. भारत बंद को सफल बनाने के लिए भाजपा ने अपने प्रमुख नेताओं को प्रांतों में होने वाली रैलियों का नेतृत्न करने के लिए भेजा है. पार्टी प्रमुख नितिन गडकरी और राजनाथ सिंह नई दिल्ली में रैली में हिस्सा लेंगे.

मुखर्जी की अध्यक्षता में 25 जून को मंत्रियों के अधिकार प्राप्त समूह की बैठक में पेट्रोल की कीमतों से सरकारी नियंत्रण हटाने का फैसला लिया गया था. केंद्र सरकार ने पिछले महीने पेट्रोल, डीज़ल और किरासन के दाम बढ़ाने का निर्णय भी लिया था. पेट्रोल में प्रति लीटर साढ़े तीन रुपए, डीजल में 2 रुपए और किरासन में 3 रुपए तथा कूकिंग गैस में 35 रुपए प्रति सिलिंडर की वृद्धि की गई. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पिछले दिनों संकेत दिया है कि पेट्रोल के बाद अब डीजल की क़ीमत तय करने के लिए भी जल्द ही छूट दे दी जाएगी.

रिपोर्ट: पीटीआई/महेश झा

संपादन: एम गोपालकृष्णन

संबंधित सामग्री