1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

मलेशिया में भारतीय मूल के कार्यकर्ता गिरफ्तार

मलेशिया में एक हिंदू त्योहार के दौरान विरोधी प्रदर्शनों में हिस्सा ले रहे नौ मलेशियाई कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया है. उनके मुताबिक एक टेक्स्टबुक में वहां रह रहे भारतीय मूल के लोगों के खिलाफ आपत्तिजनक बाते हैं.

default

मलेशिया में दीवाली

सारे कार्यकर्ता ह्यूमन राइट्स पार्टी के सदस्य हैं और उन्होंने सरकार से मांग की है कि वह मैले भाषा में लिखे गए पाठ्य पुस्तक 'इंटरलोक' को बाजारों से वापस ले लें क्योंकि इसमें भारतीय समाज में वर्ण व्यवस्था के बारे में लिखा गया है, जो मलेशिया में रह रहे भारतीय मूल के लोगों के लिए आपत्तिजनक है.

विरोधी प्रदर्शन के आयोजक एस जयतास ने पुलिस हिरासत से एक समाचार एजेंसी को बताया, "हम चाहते हैं कि किताब को वापस लिया जाए क्योंकि इससे राष्ट्रीय एकता को कोई फायदा नहीं हो रहा है, बल्कि काफी नफरत पैदा हो रही है." जयतास ने कहा कि जब वे अपना बयान लोगों के बीच बांट रहे थे तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें संवाददाता सम्मेलन आयोजित करने से भी मना कर दिया गया.

स्थानीय पुलिस ने गिरफ्तारी की पुष्टि की है. जिला पुलिस

Malaysia Skyline von Kuala Lumpur

क्वालालंपुर

प्रमुख अब्दुल रहीम अब्दुल्लाह ने कहा कि इन नौ कार्यकर्ताओं को 'पुलिस के काम में अडंगा डालने की वजह से' गिरफ्तार किया गया.

इंटरलोक नाम के विवादित किताब में मलेशिया के तीन प्रमुख समुदायों, यानी चीनी, मलेशियाई और भारतीयों के इतिहास के बारे में बताया गया है. सरकार ने किताब की जांच के लिए एक खास पैनल बिठाई है लेकिन इसे वापस लेने के सिलसिले में कोई फैसला नहीं लिया गया है.

क्वालालंपुर के पास बाटू गुफाओं में हर साल लाखों हिंदू श्रद्धालू थाइपुसाम त्योहार के लिए जमा होते हैं. इस साल लगभग दस लाख लोग जमा हुए हैं. श्रद्धालू भारी भरकम कांवड़ियों को लेकर बाटू गुफाओं के मंदिरों तक 200 से ज्यादा सीढ़ियां चढ़कर जाते हैं. थाइपुसम त्योहार को मलेशिया के कई मुसलिम प्रधान जगहों में भी मनाया जाता है. मलेशिया की जनसंख्या के 10 प्रतिशत लोग भारतीय मूल के हैं. इनमें ज्यादातर हिंदू हैं.

रिपोर्टः एएफपी/एमजी

संपादनः उज्ज्वल भट्टाचार्य

DW.COM

WWW-Links