1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मलेशिया ने उत्तर कोरिया भेजा किम जोंग नाम का शव

उत्तर कोरिया और मलेशिया के बीच राजनयिक तनाव अब कम होता नजर आ रहा है. मलेशिया ने उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के सौतेले भाई किम जोंग नाम का शव उत्तर कोरिया भेज दिया है.

मलेशिया के क्वालालंपुर एयरपोर्ट पर 13 फरवरी को किम जोंग नाम की हत्या कर दी गई थी जिसके बाद शव का पोस्टमार्टम किया गया. लेकिन घटना के 6 हफ्ते बाद अब शव को उत्तर कोरिया भेजा गया है. इसके बाद उत्तर कोरिया ने भी नौ मलेशियाई लोगों को वापस अपने देश भेज दिया. मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रज्जाक ने ट्वीट कर सभी नौ लोगों के सही-सलामत वापस आने पर भगवान का शुक्रिया अदा किया.

उत्तर कोरिया में रोके गये नौ मलेशियाई लोगों में से तीन दूतावास के कर्मचारी थे और बाकी छह उनके परिवार के सदस्य. दोनों देशों के बीच पनपे मतभेद के बाद इन लोगों के मलेशिया लौटने पर उत्तर कोरिया ने रोक लगा दी थी.क्वालालंपुर एयरपोर्ट पर मलेशियाई विदेश मंत्री ने सभी लोगों से मुलाकात की. उत्तर कोरिया में मलेशियाई दूतावास के काउंसलर रहे मोहम्मद नूर अजरीन ने बताया कि वहां फंसे सभी मलेशियाई लोगों को घूमने-फिरने की इजाजत थी और प्योंगयांग में उन्हें किसी प्रकार की धमकी नहीं दी गई थी. उन्होंने कहा कि वे सब चिंतित थे क्योंकि उन्होंने कुछ गलत नहीं किया था.

वहीं किम जोंग नाम की हत्या के छह हफ्ते बाद उनका शव उत्तर कोरिया भेजा गया है. इस मामले में मलेशियाई पुलिस ने दो महिलाओं को भी गिरफ्तार किया है.

इस पूरे मामले के बाद दोनों देशों के बीच राजनयिक स्तर पर तनातनी बढ़ गई थी और दोनों ही देशों ने एक दूसरे के राजनयिकों को निकाल दिया था. मामले ने तूल पकड़ा तो उत्तर कोरिया ने मलेशियाई नागरिकों के देश छोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया और बदले में मलेशिया ने भी यही कदम उठाया. ऐसा भी कहा गया है कि किम जोंग नाम के शव के लिये उनके परिवारवालों ने अनुरोध किया है लेकिन परिवार में किसने ऐसा अनुरोध किया, इसका खुलासा नहीं किया गया है. किम की पत्नी और बच्चे उत्तर कोरिया से निर्वासित हैं और हत्या के पहले वे मकाउ में रहते थे लेकिन हत्या के बाद कहीं और छुपे हैं.

एए/एके (एएफपी, डीपीए, रॉयटर्स)

DW.COM