1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मलाला युसूफजई का ऑक्सफोर्ड में दाखिला

पाकिस्तान की नोबेल विजेता मलाला युसूफजई को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में दाखिला मिल गया है. 20 साल की मलाला ने ट्विटर पर ये जानकारी दी.

ट्विटर पर मलाला ने ये जानकारी देते हुए लिखा है, "ऑक्सफोर्ड जाने के लिए बेहद उत्साहित हूं." इसके साथ ही मलाला ने उस संदेश की एक तस्वीर भी डाली है जिसमें उन्हें दर्शन, राजनीति और अर्थशास्त्र के कोर्स (पीपीई) में दाखिले की मंजूरी है. ब्रिटेन में सेंकेंडरी स्कूलों के आखिर में होने वाली परीक्षा के नतीजों का एलान होने के एक दिन बाद ही ये जानकारी सामने आई है. युसूफजई ने अपने स्कूल के नतीजों को तो नहीं दिखाया है लेकिन इतना जरूर लिखा है, "सभी ए लेवल के छात्रों के लिए बहुत अच्छा, सबसे कठिन साल. आगे की जिंदगी के लिए शुभकामनाएं."

मलाला युसूफजई तब महज 15 साल की थीं जब तालिबान के एक बंदूकधारी ने उनके सिर में गोली मार दी थी. स्वात घाटी में उस वक्त मलाला अपने स्कूल की परीक्षा दे कर गांव वापस जा रही थीं. मलाला ने पाकिस्तान की लड़कियों को पढ़ाई के प्रति जागरूक करने की कोशिश की थी. इस हमले के तुरंत बाद उन्हें इलाज के लिए बर्मिंघम ले जाया गया. और तब से वह अपने पूरे परिवार के साथ बर्मिंघम में ही रह रही हैं. यहीं से उनकी पढ़ाई और लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने का अभियान चल रहा है. मलाला युसूफजई को 2014 में भारत के कैलाश सत्यार्थी के साथ संयुक्त रूप से नोबेल शांति पुरस्कार दिया गया था. उस वक्त मलाला की उम्र महज 17 साल थी और वो नोबेल शांति पुरस्कार पाने वालों की सूची में सबसे कम उम्र की विजेता हैं. कैलाश सत्यार्थी भारत में बच्चों के अधिकारों के लिए काम करते हैं.

मलाला युसूफजई ने इसी साल जुलाई में अपनी स्कूली पढ़ाई खत्म करने के बाद ट्विटर पर अपना अकाउंट बनाया था और इस अनुभव को "कड़वा मीठा" बताया था. युसूफजई ने लिखा था, "मैं जानती हूं कि दुनिया भर में करोड़ों लड़कियां स्कूलों से बाहर हैं और उन्हें अपनी पढ़ाई पूरी करने का मौका नहीं मिल पाता." हालांकि उन्होंने ये भी लिखा है कि वो अपने भविष्य को लेकर उत्साहित है और इसके साथ ही उन्होंने "लड़कियों के लिए लड़ने" का वादा भी किया है.

पीपीई कोर्स ऑक्सफोर्ड का एक बेहद सम्मानित कोर्स है जिससे हो कर ब्रिटेन के कई राजनेता और दुनिया के नेता निकले हैं. इन नेताओ में पाकिस्तान की दिवंगत प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो भी शामिल हैं.

एनआर/एएफपी (एमजे)

DW.COM

संबंधित सामग्री