1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मलबे से 40 लोग जिंदा निकले

मलबे में बदले इमारत से राहतकर्मियों ने गुरुवार को 40 जिंदा लोगों को बाहर निकाला. राहत कर्मचारी पूरी मुस्तैदी से ढूंढ रहे हैं शायद कोई जिंदा बचा हो. ढाका के उपनगर साभार की गिरी इमारत में 200 से ज्यादा लोगों की जान गई है.

बुधवार को बांग्लादेश की कपड़ा फैक्ट्री की इमारत के गिरने से अब तक 200 से ज्यादा लोगों की जान गई है इमारत में दरार दिखने के बाद इसे खाली करने का आदेश दिया गया था लेकिन फैक्ट्रियों ने आदेश को नहीं माना और वहां काम जारी रखा.

मंगलवार को जब इमारत में दरार सामने आई तो वहां मौजूद एक स्थानीय बैंक ने अपने कर्मचारियों को वहां से निकाल कर तुरंत काम बंद कर दिया. स्थानीय औद्योगिक पुलिस के निदेशक मोस्ताफिजुर रहमान ने बताया कि कपड़ा फैक्ट्रियों ने पुलिस के आदेशों की अवहेलना कर वहां काम जारी रखा. बुधवार सुबह इमारत गिरने के कुछ ही घंटे पहले बांग्लादेश के कपड़ा उद्योग और निर्यात संघ ने भी फैक्ट्रियों को काम रोकने के लिए कहा था. गृह मंत्री शमसुल हक ने गुरुवार सुबह बताया कि कुल 2000 लोगों को इमारत से निकाला गया है. कपड़ा बनाने वाली कंपनी का कहना है कि इमारत में कुल 3122 कर्मचारी काम करते हैं लेकिन यह नहीं पता कि हादसे के वक्त कितने लोग वहां मौजूद थे.

राजधानी ढाका के साभार उपनगर में हुए इस हादसे ने पांच महीने पहले एक कपड़ा फैक्ट्री में लगी आग की याद ताजा कर दी है. उस हादसे में 112 लोगों की जान गई थी. पुलिस अधिकारी मुनीर हुसैन ने बताया कि इमारत के मालिक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है जो घटना के बाद से फरार है. इमारत का मालिक सत्ताधारी पार्टी से जुड़ा है और इसके निर्माण में कई नियमों की अनदेखी की गई है.

बांग्लादेश दुनिया भर के कपड़ों की ब्रांड के लिए दूसरा सबसे बड़ा सिलाई केंद्र है. दुनिया के ज्यादातर देशों में पहने जाने वाले ब्रांडेड कपड़े यहीं तैयार होते हैं. ऐसा होने के बावजूद काम की जगह पर हालात बेहद खराब हैं. बांग्लादेश की इन फैक्ट्रियों के लिए कड़े सुरक्षा मानक बनाने की मांग एक बार फिर हादसे के बाद जोर पकड़ने लगी है. विदेशी खरीदारों पर मुनाफे की तलाश में यहां के सुरक्षा नियमों की अनदेखी करने का आरोप लगता है. एम्सटर्डम के क्लीन क्लॉथ्स कैम्पेन की प्रवक्ता टेसेल पाउली ने कहा है, "इस तरह के हादसे बता रहे है कि ये ब्रांड सुरक्षा को प्राथमिकता बनाने में नाकाम हो रहे हैं. वो जानते हैं कि क्या किया जाना चाहिए और वो वैसा नहीं कर रहे."

सस्ते कपड़े बेचने वाली ब्रिटिश दुकान प्रीमार्क ने बताया कि जो इमारत हादसे का शिकार हुई है उसमें उसका भी एक सप्लायर था. कंपनी ने बयान जारी कर कहा है, "कंपनी साभार की घटना से हैरान और काफी दुखी है और सभी प्रभावित लोगों के प्रति सहानुभूति रखती है." एक और बड़े ब्रांड वालमार्ट ने कहा है कि वह इस बात का पता कर रही हैं कि क्या इस इमारत में उनका भी कोई सप्लायर है. स्पेन के ब्रांड मैंगो और इटली के बेनेटन ने कहा है कि उनका कोई सप्लायर उस इमारत में नहीं था.

हादसा बांग्लादेश में जरूर हुआ है लेकिन दक्षिण एशिया के बाकी देशों में भी हालात कोई इससे बहुत अलग नहीं हैं. पुरानी या कमजोर इमारतों में चल रहे उद्योगों में अमानवीय हालत में मजदूर काम करने को मजबूर हैं. जब नौकरी के ही लाले पड़े हों तो सुरक्षा के मानकों के बारे में कौन पूछता है.

एनआर/एमजे(एएफपी)

DW.COM