1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

मध्य प्रदेश में 600 टन विस्फोटक गायब

राजस्थान की सरकारी फैक्टरी से मध्य प्रदेश भेजा गया 600 टन विस्फोटक बीच रास्ते से गायब. मध्य प्रदेश की पुलिस के मुताबिक विस्फोटकों से लदे 61 ट्रकों का कोई सुराग नहीं मिला है. अधिकारियों के हाथ पांव फूले.

default

पुलिस के मुताबिक विस्फोटकों का आखिरी जखीरा चार दिन पहले मध्य प्रदेश के सागर पहुंचना था, लेकिन पूरा काफिला बीच रास्ते में गायब हो गया. मध्य प्रदेश के आईजी अंवेश मंगलम ने जानकारी देते हुए कहा कि विस्फोटक राजस्थान एक्सपोसिव एंड कैमिकल लिमिटेड, धौलपुर से 61 ट्रकों पर लादा गया. 600 टन यानी छह लाख किलोग्राम विस्फोटक गणेश मैग्जीन, सागर के लिए भेजा गया था.

यह चार महीने की खेप थी. विस्फोटक अप्रैल से जुलाई तक की खेप का हिस्सा था. हैरानी की बात है कि अगस्त में पूरे मामले की जानकारी सामने आ रही है. यह चौंकाने वाली बात ही है कि आतंकवाद और नक्सलवाद से लड़ते भारत में अब तक 61 ट्रकों के काफिले या विस्फोटक का पता नहीं चल सका है. बारूद की कीमत करीब एक करोड़ 30 लाख रुपये बताई जा रही है.

अब मध्य प्रदेश सरकार, राजस्थान सरकार और दोनों राज्यों की पुलिस के हाथ पांव फूलते दिख रहे हैं. मध्य प्रदेश के आईजी ने आशंका जताई है कि विस्फोटक गलत हाथों में पड़ सकते हैं. मध्य प्रदेश के गृह मंत्री उमा शंकर गुप्ता ने कहा कि गुम हुए ट्रकों का सुराग लगाने की कोशिश की जा रही है. उन्होंने कहा, ''चार पुलिस टीमें राजस्थान, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र भेजी गई हैं.''

रिपोर्ट: पीटीआई/ओ सिंह

संपादन: महेश झा

DW.COM