1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

मदर टेरेसा पर टकराव

सेवाभाव की प्रतिमूर्ति मदर टेरेसा को समर्पित फिल्म महोत्सव में उन पर आधारित पहली लघुफिल्म नहीं दिखाई जाएगी. उनकी महानता से दुनिया को रूबरू कराने वाली इस फिल्म को बीबीसी ने आयोजकों को देने से इनकार कर दिया है.

default

कोलकाता में 26 अगस्त से होने जा रहे मदर टेरेसा अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का आगाज लघुफिल्म "समथिंग ब्यूटीफुल फॉर गॉड" की स्क्रीनिंग से किए जाने की योजना पर पानी फिरता नजर आ रहा है. इससे दुनिया भर में मदर टेरेसा के प्रशंसकों का मायूस होना लाजमी है. उनके जीवन पर आधारित यह एकमात्र और पहली लघुफिल्म है.

फिल्म न दिखाए जाने की मुख्य वजह फिल्म की लाइसेंस फीस को लेकर आयोजकों के साथ बात न बन पाना बताया जा रहा है. दो एपिसोड वाली इस फिल्म को 1969 में बनाए जाने के बाद मदर टेरेसा को वैश्विक पहचान मिली थी. भारत में मदर टेरेसा के कामकाज पर रोशनी डालने वाली इस फिल्म को अपने समय के मशहूर प्रोड्यूसर पीटर चेफर ने बनाया था.

Jahresvorschau 2010 Flash-Galerie

महोत्सव के निदेशक सुनील लुकास ने बताया कि फिल्म दिखाने की दो बार अनुमति मांगने के बावजूद बीबीसी की ओर से अब तक कोई जवाब नहीं मिला है. उन्होंने कहा "मुझे नहीं लगता कि अब इस फिल्म से महोत्सव की शुरुआत हो सकेगी."

गौरतलब है कि मिशनरी ऑफ चैरिटी और यूनेस्को की ओर से प्रायोजित इस फिल्म महोत्सव की शुरूआत 2003 में हुई थी. आयोजकों का कहना है कि महोत्सव का मकसद मुनाफा कमाना नहीं है फिर भी महज लाइसेंस फीस के कारण फिल्म न मिल पाना दुखद है.

रिपोर्टः एजेंसी/ निर्मल

संपादनः ए जमाल

DW.COM

WWW-Links