1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मणिपुर में भूकंप, 8 मरे दर्जनों घायल

भारत के पूर्वोत्तर प्रांत मणिपुर में आए भूकंप में कम से कम 8 लोग मारे गए हैं. रिष्टर स्केल पर 6.7 की तीव्रता वाले भूकंप के झटके सैकड़ों किलोमीटर दूर बांग्लादेश में भी महसूस किए गए और लोग डर कर सड़कों पर उतर आए.

सुबह तड़के आए भूकंप के कारण दिल का दौरा पड़ने से भारत में पांच लोगों की मौत हो गई जबकि बांग्लादेश में तीन लोगों की जान गई. भारत के आपदा प्रबंधन प्राधिकार के अनुराग गुप्ता ने कहा है कि राजधानी इंफाल में इमारतों को नुकसान पहुंचा है. गुप्ता ने कहा, "पांच लोगों के मरने की पुष्टि हुई है जबकि इंफाल में 33 लोग घायल हो गए हैं."

अमेरिकन जियोलॉजिकल सर्वे के अनुसार भूकंप 4 बजकर 35 मिनट पर आया. उसका केंद्र इंफाल से 29 किलोमीटर पश्चिमोत्तर में था. उस इलाके में इमारतें नष्ट हो गई हैं और प्रांत के कई हिस्सों में बिजली का संपर्क टूट गया है.

बीणालक्ष्मी नेपराम ने भूकंप की तस्वीरें ट्वीट की हैं, जिनसे तबाही के आयाम का पता चलता है. मणिपुर की ऐतिहासिक ईमा मार्केट को भी भारी नुकसान पहुंचा है जो महिलाओं का बाजार है.

भूकंप के झटके बांग्लादेश के अलावा नेपाल में भी महसूस किए गए हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि उन्होंने मुख्यमंत्री ओकराम इबोबी सिंह से टेलिफोन पर बातचीत की है और मणिपुर तथा पूर्वोत्तर की स्थिति का जायजा लिया है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने एक ट्वीट में कहा है कि उनके विचार और प्रार्थना मणिपुर और भूकंप से प्रभावित पूर्वोत्तर के दूसरे प्रांतों के लोगों के साथ हैं.

इंफाल के निवासी दीपक शिजागुरुमायुंग ने कहा है कि उनका घर भी टूट गया है और वहां भूकंप के बाद अव्यवस्था का माहौल है. जब भूकंप के झटके आए तो लोग सो रहे थे. अब वे नए झटकों के डर से घर के अंदर नहीं जा रहे हैं. भारत का पूर्वोत्तर नियमित भूकंपीय गतिविधियों वाला इलाका है. 1950 में तिब्बत में आए भूकंप के बाद भूस्खलन और बाढ़ जैसे असर से असम के कई गांव ध्वस्त हो गए थे और 1500 लोग मारे गए थे.

DW.COM

संबंधित सामग्री