1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

मजीद दागी खिलाड़ियों का एजेंटः पीसीबी

दागी पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने माना है कि मजहर मजीद नाम का जो व्यक्ति मैच फिक्सिंग विवाद का केंद्र है, वह उनका एजेंट है. हालांकि उन्होंने कोई भी गलत काम करने से इनकार किया है. यह बात पीसीबी के कानूनी सहालकार ने कही है.

default

कसता शिकंजा

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के कानूनी सलाहकार तफज्जुल रिजवी ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया, "माजिद उनका मार्केटिंग एजेंट है और खिलाड़ियों को जो पैसा दिया गया है, वह स्पॉन्सरशिप डील से जुड़ा हो सकता है. इसका यह मतलब कतई नहीं है कि उन्होंने कोई अपराध किया है." जब रिजवी से मजीद और खिलाड़ियों के बीच भेजे जाने वाले एसएमएस संदेशों के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, "खिलाड़ियों और एजेंटों के बीच में ऐसा होता रहता है."

रिजवी ने बताया कि खिलाड़ियों ने पूछताछ के दौरान माना है कि मजीद उनका एजेंट है. रिजवी के मुताबिक, "उन्होंने इस बात से इनकार किया है कि मजीद ने स्पॉट फिक्सिंग या नो बॉल फेंकने के लिए पैसा दिया है. खिलाड़ियों ने पुलिस को स्पॉन्सरशिप का कॉन्ट्रैक्ट भी दिखाया. इसीलिए उन्हें बिना कोई आरोप तय किए छोड़ दिया गया."

रिजवी ने कहा कि वह खिलाड़ियों का बचाव नहीं कर रहे हैं बल्कि पूछताछ के दौरान मिली जानकारी ही दे रहे हैं. उनका कहना है, "खिलाड़ी अपने एजेंट खुद चुनते हैं और इस मामले में पीसीबी कोई दखल नहीं देता." रिजवी पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के कानूनी सलाहकारों में शामिल हैं. वह इस वक्त लंदन में फिक्सिंग मामले में स्कॉटलैंड यार्ड की छानबीन पर नजदीक से नजर रखे हुए हैं. वह पूछताछ के लिए बुलाए गए तीनों पाकिस्तानी खिलाड़ियों के साथ किलबर्न पुलिस स्टेशन में भी गए.

रिजवी ने कहा कि पाकिस्तानी खिलाड़ियों को गिरफ्तार नहीं किया गया है. उन्हें शुक्रवार को बिना आरोप तय किए छोड़ दिया गया. रिजवी कहते हैं, "खिलाड़ी अपनी इच्छा के पुलिस स्टेशन गए. आगे जब भी उनकी जरूरत पड़ेगी, वह पूछताछ के लिए मौजूद रहेंगे."

पाकिस्तान के जियो टीवी के साथ बातचीत में तफज्जुल रिजवी ने कहा कि अगर टीम के कप्तान सलमान बट, गेंदबाज मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद आमेर आईसीसी की तरफ से किए गए अपने निलंबन के खिलाफ अपील करते हैं तो उन्हें अपना केस खुद लड़ना होगा.

उधर तफज्जुल रिजवी के पिता और पीसीबी के वरिष्ठ कानूनी सलाहकार तालिब रिजवी ने कहा, "मैं एक बात साफ कर देना चाहता हूं कि अगर हमारे खिलाड़ी निर्दोष पाए गए तो पीसीबी आईसीसी और अन्य संस्थाओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी. हम मानते हैं कि आईसीसी ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों को सस्पेंड करने के मामले में अपने ही नियमों की अनदेखी की है."

तालिब रिजवी ने बताया कि अभी पाकिस्तानी के आरोपी खिलाड़ियों के खिलाफ कोई आपराधिक मुकदमा नहीं चल रहा है. वह कहते हैं, "अभी सिर्फ शुरुआती छानबीन हो रही है. इससे ज्यादा कुछ नहीं है. उनसे पूछताछ हो रही है. कोई जांच नहीं हो रही है."

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः वी कुमार

DW.COM