1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

मजबूत पासवर्ड के 7 तरीके

रूस का एक हैकर जब सवा अरब लोगों के लॉगिन और पासवर्ड चुरा सकता है, तो फिर अपने कंप्यूटर और इंटरनेट की सुरक्षा कैसे करें. यह अच्छा मौका है कि अपने पासवर्ड पर एक बार फिर नजर डाली जाए.

इस खबर के फैलने के बाद इंटरनेट पर एक बार फिर हड़कंप मचा है. आखिर आज के जमाने में इंटरनेट के बिना किसी का काम भी तो नहीं चलता. जिस मुद्दे पर बार बार चर्चा होती है, उसका एक बार फिर जिक्र जरूरी हैः अगर लगे कि किसी ने आपके अकाउंट में सेंध लगाई है, तो फौरन अपना पासवर्ड बदल लें.

  • पासवर्ड को लंबा रखें. कम से कम आठ कैरेक्टरों की बात होती है लेकिन अगर इसमें 14 कैरेक्टर हैं, तो बहुत अच्छा. अगर 25 हैं, तो फिर क्या कहने. हालांकि कुछ जगहों पर पासवर्ड की सीमा होती है.
  • संख्या और अक्षरों का अच्छा मिश्रण रखें. अक्षर भी कैप्स और बिना कैप्स (शिफ्ट के साथ और बगैर) चुनें. कुछ जगहों पर यह संभव नहीं. लेकिन फिर भी password 43 से PaSsWoRd!43 कहीं बेहतर है.
  • डिक्शनरी वाले शब्दों से बचें. कई ऐसे कंप्यूटर प्रोग्राम हैं, जो इन शब्दों को क्रैक कर सकते हैं. एक तरीका यह है कि नंबरों को बीच में डाल दें. अगर आपके जेहन में password123456 आ रहा है, तो उसे pas123swor456d भी किया जा सकता है, जो काफी मजबूत पासवर्ड है.
  • किसी पूरी पंक्ति को सोचें और फिर उसमें आने वाले शब्दों के पहले अक्षरों से अपना पासवर्ड बना लें.
  • कुछ अक्षरों को जानबूझ कर बदल दें. अगर किसी शब्द में ओ अक्षर आता है, तो उसे शून्य से बदल दें. ई को यूरो के चिह्न से, या एस को डॉलर के चिह्न से.
  • आसानी से गेस करने वाले शब्दों का इस्तेमाल न करें. अपना, पत्नी का, घरेलू जानवर का या फिर मुहल्ले का नाम या पिनकोड न रखें. हां, पासवर्ड कभी password नहीं रखना चाहिए.
  • कभी भी दो चीजों के लिए एक पासवर्ड न रखें. हां, अलबत्ता कई बार ऐसी जगहों पर पासवर्ड की जरूरत होती है, जो ज्यादा अहम नहीं होते. मिसाल के तौर पर किसी ऑनलाइन अखबार को पढ़ने के लिए. तो इनके लिए एक ही पासवर्ड रखा जा सकता है. लेकिन ईमेल, बैंकिंग, फेसबुक, ट्विटर और दूसरी निजी चीजों के लिए अलग अलग पासवर्ड जरूरी है.
  • आजकल कई सेवाएं एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं. मिसाल के तौर पर स्टोरीफाई या हूटस्वीट जैसी वेबसाइटों पर फेसबुक के जरिए लॉगिन किया जा सकता है. तो यहां अलग से अकाउंट बनाने की जरूरत नहीं.
  • जीमेल जैसी सेवाएं अब यूजरों को दो पासवर्ड रखने की इजाजत देती हैं. अगर आप पहली बार किसी कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं, तो यह संभव है. इसे एक्टीवेट करना होता है. तब जीमेल आपके मोबाइल पर छह अंकों का टेक्स्ट मैसेज भेजता है. यह सिर्फ एक बार इस्तेमाल होने वाला पासवर्ड है. आपको नए कंप्यूटर में यह पासवर्ड डालना होगा. हां, यह मुश्किल है और थोड़ा समय भी लेता है. लेकिन बाद में पछताने से बेहतर है कि इसे एक्टीवेट किया जाए.

एजेए/एमजी (एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री