1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

मछलियां भी करती हैं बातें

शांत तरीके से पानी में तैरती मछलियों को देखकर लगता ही नहीं कि वे भी आपस में बातें करती होंगी. लेकिन ताजा रिसर्च कहती हैं कि कुछ मछलियां आवाजें करती हैं. कई बार वह सथियों को खतरे से आगाह करती हैं तो कई बार मौज मस्ती भी.

default

क्या बातें हो रही हैं

न्यू जीलैंड के एक शोधकर्ता के मुताबिक मछलियां चिड़ियों की तरह चहचहा और भिनभिना सकती हैं. कई प्रजातियां तो सूअर जैसी आवाज भी निकाल सकती हैं. सभी मछलियां सुन सकती हैं, लेकिन सभी मछलियां आवाज़ें नहीं कर सकतीं. जो मछलियां आवाज़ें कर सकती हैं, वे इस क्षमता को एक दूसरे को सावधान करने के लिए या दूसरी मछलियों को भगाने के लिए इस्तेमाल करती हैं. कई इस क्षमता को अपना साथी चुनते वक्त भी इस्तेमाल करती हैं.

शोधकर्ता शाहरिमान गजाली ने यह भी पाया कि ये जीव अपने पंखों को फड़फड़ा कर ऐसा करते हैं. दिलचस्प बात यह है कि कम आंके जाने वाली मछलियों में भी हमारी सोच से कहीं ज़्यादा गुण हैं. यानी सागरों की दुनिया इतनी शांत नहीं है, जितनी लगती है.

लेकिन अगर कोई यह सोच रहा हो कि उसके एक्वेरियम में रखी गोल्डफिश भी कुछ कहेगी, तो यह जरा मुश्किल है. गजाली कहते हैं, ''गोल्डफिश की सुनने की क्षमता बहुत अच्छी है. लेकिन सुनने का मतलब यह नहीं है कि वह बोल भी सकती है. कुछ भी हो, वे किसी तरह की आवाज नहीं करती हैं.''

गजाली ने बुधवार को अपने शोध के इन निष्कर्षों को न्यूजीलैंड की मैरिन साइंस सोसाइटी में पेश किया.

रिपोर्टः एजेंसियां/प्रिया एसेलबोर्न

संपादनः ए कुमार