1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मंथन

मंथन 90 में खास

घर से निकलते वक्त तीन चीजें जेब में रखना सबसे जरूरी होता है. मोबाइल फोन, पर्स और चाबी. अगर इनमें से एक भी छूट जाए तो क्या मोबाइल ऐप उसकी जगह ले सकता है.

डिजिटल दुनिया में अमेरिका की सिलिकॉन वैली का बहुत नाम है. गूगल, फेसबुक, याहू समेत ज्यादातर बड़ी कंपनियों के मुख्यालय यहीं हैं. बर्लिन की बात की जाए तो वह जर्मनी की सिलिकॉन वैली में तब्दील होता दिख रहा है, खास कर वीडियो गेम इंडस्ट्री के लिए. गेम्स इंडस्ट्री के लिए बर्लिन बेहतरीन जगह है, तो सोशल साइंसेस और इकोनॉमिक्स में रिसर्च के लिए फ्रैंकफर्ट, म्यूनिख और बॉन. बॉन में पिछले दिनों जर्मनी के प्रतिष्ठित चांसलर स्कॉलरशिप के लिए टेस्ट हुए. इनमें जिन लोगों ने भाग लिया उनमें भारत की तन्वी भी थीं. इस बार मंथन में तन्वी से बातचीत होगी.

ऊर्जा की भूख

प्राकृतिक ईंधन के लिए रोमानिया रूस पर निर्भर है. वहां से उसे एक चौथाई ऊर्जा मिलती है, बाकी रोमानिया खुद बनाता है. ऊर्जा स्वतंत्रता के लिए सरकार विवादास्पद फ्रैकिंग तकनीक का इस्तेमाल कर रही है. मोल्डाविया से लगी पूर्वी सीमा पर रोमानिया ने बोरिंग शुरू कर दी है.

रोमानिया से रुख कनाडा का. कई साल कनाडा से मेक्सिको की खाड़ी तक जाने वाली तेल पाइपलाइन के प्रोजेक्ट पर बहस चलती रही. अब इस प्रोजेक्ट की शुरुआत हो चुकी है. जानिए क्या है पूरा मामला.

ईबाइक की सवारी

यूरोप में एक ईबाइक की कीमत औसतन दो से ढाई हजार यूरो के बीच है यानि करीब डेढ़ से दो लाख रुपये. इसके बावजूद इनकी बिक्री बढ़ती जा रही है. जर्मनी में पिछले साल चार लाख से ज्यादा ईबाइक बिकीं. ये इलेक्ट्रिक साईकल न केवल प्रदूषण कम करने में मदद कर रही हैं, बल्कि सेहत के लिए भी अच्छी हैं. डॉक्टरों का कहना है कि ईबाइक चलाने से दिल का दौरा पड़ने की संभावना तीस फीसदी तक कम हो सकती है. इन्हीं सभी रिपोर्टों के सहारे सुलझाएंगे विज्ञान के राज शनिवार सुबह 10:30 बजे, डीडी नेशनल पर.

आईबी/ओएसजे

संबंधित सामग्री