1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मंत्रियों में संपत्ति जाहिर करने की होड़

फ्रांस की एक मंत्री ने संपत्ति जाहिर करने की शुरुआत की और इसके बाद पूरा कैबिनेट उनके कदमों पर चल पड़ा. पूर्व बजट मंत्री जिरोम कायुजाक के गुप्त खाते वाले मामले के बाद सभी मंत्रियों ने संपत्ति सार्वजनिक की.

प्रधानमंत्री जां मार्क एरो ने पूरी पारदर्शिता की मांग की है. जिरोम कायुजाक का काला धन पकड़े जाने के बाद अब तय किया गया है कि अगले सोमवार तक सभी मंत्रियों की संपत्ति के बारे में इंटरनेट पर पढ़ा जा सकेगा.

सबसे पहले विकलांग मामलों के मंत्रालय की उपमंत्री मारी आर्लेट कार्लोटी ने स्वेच्छा से अपनी संपत्ति के बारे में जानकारी दी. उन्होंने पूरी सूची इंटरनेट पर सार्वजनिक की और सभी बैंक खातों, धन और घरों की कीमत बताई.

प्रधानमंत्री एरो ने आने वाले महीने में एक कानून का वादा किया है जिसमें सार्वजनिक जीवन में नैतिक मूल्यों को तय किया जाएगा. अमेरिका सहित कई देशों में जनप्रतिनिधियों के लिए संपत्ति सार्वजनिक करना अनिवार्य है.

फ्रांसीसी नेताओं के संपत्ति की घोषणा अभी तक गोपनीय रखी जाती थी और फिर एक आयोग उसकी जांच करता था. संपत्ति में न केवल बैंक खाते की बल्कि शेयरों, कैश, मकानों, गहने, महंगी पेंटिंग्स, गाड़ियों की भी जानकारी देनी पड़ती है. कायुजाक ने विदेश में अपने छह लाख यूरो के विदेशी बैंक खाते के बारे में कुछ नहीं बताया. खोजी ऑनलाइन पत्रिका मीडियापार्ट ने इसके बारे में रिपोर्ट दी.

राष्ट्रपति फ्रोंसुआ ओलांद इस गुप्त खाते के खुलासे के बाद भारी दबाव में हैं. हालांकि उन्होंने खुलासे के बाद भ्रष्ट नेताओं पर कानूनी कार्रवाई का वादा किया लेकिन समाजवादी पार्टी के लिए कर चोरी एक संवेदनशील मुद्दा है. ओलांद ने चुनावी सभाओं में साफ सुथरी सरकार का वादा किया था और सत्ता में आने के पहले ही साल उन्हें इस घोटाले से दो चार होना पड़ा.

विदेश मंत्री लोरां फाबियुस के भी स्विट्जरलैंड में खाता होने की अफवाह उड़ी थी. सोमवार को लिबरेशन नाम के एक अखबार ने इस बारे में खबर छापी थी.

एएम/एनआर (डीपीए,एएएफपी)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री