1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भोपाल गैसकांड में निशाने पर अर्जुन सिंह

भोपाल गैस कांड के बाद वॉरेन एंडरसन को जेल से निकालकर सुरक्षित उसके देश भेजा राज्य सरकार ने. खबर आने के बाद तब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे अर्जुन सिंह पर सवाल उठने लगे हैं. सवाल पूछा है कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने.

default

मध्यप्रदेश के पूर्व एविएशन डायरेक्टर आरएस सोढी ने गुरुवार को बताया कि हादसे के बाद उनके पास मुख्यमंत्री के दफ्तर से फोन आया और भोपाल से दिल्ली के लिए सरकारी विमान तैयार करने का आदेश मिल. उन्हें ये भी निर्देश मिला कि विमान के पायलट को यात्री के पहचान के बारे में न बताया जाए. 7 दिसंबर 1984 को सोढी ने विमान की व्यवस्था की और जिसमें बैठकर वॉरेन एंडरसन दिल्ली गया. एंडरसन को विमान में चढ़ाने तब के भोपाल के पुलिस सुपरिटेंडेंट के साथ जिलाधिकारी मोती सिंह भी आए थे.

विमान ले जाने वाले पायलट एसएच अली ने कहा कि दोनों अधिकारियों ने एंडरसन को हाथ हिलाकर विदा किया. हालांकि पायलट अली का ये भी कहना है कि तब उनसे एंडरसन की पहचान छुपाई गई थी. पायलट को विमान ले जाने का निर्देश आरएस सोढी ने दिया.

करीब एक घंटे 35 मिनट की फ्लाइट के बाद विमान दिल्ली पहुंचा जहां एंडरसन को ले जाने के लिए विमान के पास एक एंबेस्डर कार आई थी. ये कार एंडरसन को एयरपोर्ट मैनेजर के पास ले गई जहां पहले से ही एक दूसरी गाड़ी मौजूद थी.बाद में एंडरसन निजी एयरलाइंस के विमान से मुंबई चला गया और फिर देश से बाहर.

उस वक्त के भोपाल के जिला कलेक्टर मोती सिंह पहले ही कह चुके हैं कि मुख्य सचिव ने उन्हें फोन कर एंडरन को रिहा करने के लिए कहा था. उन्हें ये निर्देश दिया गया कि वो एंडरसन को जेल से निकाल कर मुख्यमंत्री के सरकारी विमान से दिल्ली के लिए रवाना कर दें.

इन जानकारियों से पता चल रहा है कि भोपाल गैस कांड को लेकर उस वक्त कांग्रेस के नेता कितने गंभीर थे. लोगों के सरोकारों की परवाह किए बिना उन्होंने मुख्य आरोपी को बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. ये खबर सामने आने के बाद कांग्रेस पार्टी दो खेमों बंट गई है. कुछ कांग्रेसी नेता अर्जुन सिंह के साथ केंद्र में उस समय की कांग्रेस सरकार को भी दोषी मानते हैं.उस समय कृषि मंत्री और पार्टी के वरिष्ट नेता दिग्विजय सिंह ने कहा है की शायद एंडरसन को अमेरिका के दबाव में छोड़ दिया गया हो. एक और कांग्रेसी नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी भी ऐसा ही मानते हैं. चतुर्वेदी के अनुसार "एंडरसन को मध्य प्रदेश सरकार ने गिरफ्तार किया और उसी सरकार ने दिल्ली भेज दिया. इसका जवाब उस समय की राज्य और केंद्र की सरकार ही दे सकती है. जब इतने सवाल उठ रहे हैं और अगर छिपाने वाली कोई बात नहीं तो उन्हें बात साफ़ करनी चाहिए".

उधर बीजेपी ने कहा है कि कांग्रेस को देश से माफी मांगनी चाहिए. पार्टी के प्रवक्ता प्रकाश जावडेकर ने कहा "अब यह साबित हो गया है की कांग्रेस ने एंडरसन को भारत से बाहर भेजा इसलिए कांग्रेस को देश से माफ़ी मांगी चाहिए"

रिपोर्ट: एजेंसियां/नौरिस प्रीतम

संपादन: ओ सिंह

संबंधित सामग्री