1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

भूटान में आज से सार्क सम्मेलन

भूटान की राजधानी थिम्पू में दो दिवसीय दक्षिण एशियाई देशों का सार्क सम्मेलन शुरू हो रहा है. सम्मेलन के दौरान भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों की मुलाकात की संभावना. आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन और ऊर्जा पर होगी चर्चा.

default

हिमालय की गोद में बसा छोटा सा ख़ूबसूरत देश भूटान बुधवार से शुरू होने वाले दो दिवसीय सार्क सम्मेलन के लिए पूरी तरह तैयार है. आठ दक्षिण एशियाई देशों के नेता अगले दो दिनों तक राजधानी थिम्पू में जलवायु परिवर्तन के अलावा ऊर्जा और आपसी व्यापार के मुद्दे पर विचार-विमर्श करेंगे. सम्मेलन के दौरान बारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री युसूफ रज़ा गिलानी के बीच मुलाकात की भी संभावना है.

Der indische Premierminister Manmohan Singh

यह सार्क की स्थापना का रजत जयंती वर्ष है. भारत के पश्चिम बंगाल से सटे भूटान में पहली बार ऐसे किसी सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है. इसके प्रति स्थानीय लोगों में भारी उत्साह है. राजधानी थिम्पू को दुल्हन की तरह सजाया गया है. सड़कों के किनारे और इमारतों पर आठ सदस्य देशों के झंडे और बैनर लगाए गए हैं. भूटान को उम्मीद है कि सम्मेलन के दौरान मीडिया की सुर्खियों में रहने की वजह से देश में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा.

भूटान को पहले भी तीन बार इस सम्मेलन के आयोजन का प्रस्ताव मिला था. लेकिन उसने हर बार यह कहते हुए आयोजन से इंकार कर दिया था कि उसके पास इतने बड़े आयोजन के लिए जरूरी बुनियादी सुविधाएं नहीं हैं.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पहले मंगलवार को ही थिम्पू पहुंचना था. लेकिन फोन टैपिंग, वित्त विधेयक और महंगाई के मुद्दे पर संसद में जारी गतिरोध और विपक्ष के भारत बंद की वजह से अब वे बुधवार को सुबह आएंगे. उनके देर से आने की वजह से सम्मेलन का उद्घाटन दोपहर बाद तक टाल दिया गया है. बाकी तमाम देशों के राष्ट्राध्यक्ष थिम्पू पहुंच गए हैं.

06.2009 DW-TV Highlights Juni Bhutan

लोगों में उत्साह

भूटान के सूचना व संस्कृति सचिव किनले दोर्जी कहते हैं कि सार्क सम्मेलन दक्षिण एशिया के पड़ोसी देशों के नेताओं के आपसी विचार-विमर्श का बेहतरीन मंच है. वे यहां मिल-बैठ कर कई आपसी मुद्दे सुलझा सकते हैं. खासकर तनावपूर्ण संबंधों के मौजूदा दौर में यह काफी महत्वपूर्ण है.

थिम्पू के स्थानीय लोगों में इस सम्मेलन के प्रति भारी उत्साह है. एक नागरिक शेंजेन भूटिया कहते हैं कि हमारे देश में पहली बार ऐसे सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है. यह भूटान और यहां के लोगों के लिए अच्छा होगा.

देश में पहली बार होने वाले सार्क सम्मेलन के नतीजे उम्मीदों के अनुरूप होंगे या नहीं, यह तो बाद में पता चलेगा. लेकिन इस दौरान कई अहम क्षेत्रीय मुद्दों पर गंभीरता से विचार विमर्श की उम्मीद तो है ही.

रिपोर्ट: प्रभाकर, कोलकाता

संपादन: ओ सिंह

संबंधित सामग्री