1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारत स्थायी सीट का वाजिब हकदारः अमेरिका

अमेरिका ने भारत को अंतरराष्ट्रीय जिम्मेदारियां पूरा करने के मामले में संजीदा देश बताया है और सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के उसके दावे को पुख्ता बताया है. इसी वजह से अमेरिका ने भारतीय दावेदारी का समर्थन किया है.

default

फिलिप जे क्राउली

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता पीजे क्राउली ने कहा कि भारत ने दुनिया के सामने अपने आप को सबसे जिम्मेदार दावेदार के रूप में पेश किया है. इसी कारण अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सुरक्षा परिषद में स्थाई सदस्यता को लेकर भारत के दावे पर अपने फैसले का खुलासा किया. इसी महीने भारत के दौरे पर गए ओबामा ने नई दिल्ली में संसद के साझा अधिवेशन को संबोधित करते हुए भारत की दावेदारी का समर्थन किया.

ओबामा ने सुरक्षा परिषद में सुधारों की जरूरत पर बल दते हुए भारत के जल्द इसका स्थायी सदस्य बनने की बात कही थी. क्रउली ने कहा, "इस मामले में भारत की स्थिति अन्य देशों से अलग है इसलिए भारत को हमारा समर्थन अन्य दावेदारों को मिलने वाले समर्थन से अलग है."

जब क्राउली से पूछा गया कि क्या स्थायी सीट के लिए अमेरिकी समर्थन सीटीबीटी से जुड़ा है तो उन्होंने कूटनीतिक जवाब देते हुए सिर्फ इतना ही कहा कि अमेरिका सीटीबीटी का समर्थक है. लेकिन उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि क्या अमेरिका यह नहीं चाहता कि भारत भी सीटीबीटी पर दस्तखत करे.

वैसे क्राउली ने यह जरूर कहा कि अमेरिका ने पाकिस्तान को परमाणु और अन्य घातक हथियारों में कटौती के लिए प्रेरित किया है. अमेरिका पिछले कई सालों से पाकिस्तान में परमाणु हथियारों के हफूज न होने पर चिंता जाहिर करता रहा है. उसका कहना है कि अफगानिस्तान से तालिबानी तत्वों के पाकिस्तान की ओर रुख करने के कारण यह खतरा और भी ज्यादा बढ़ जाता है जबकि पाकिस्तान में लश्कर-ए-तैयबा जैसे खूंखार आतंकवादी संगठन पहले से ही डेरा जमाए बैठे है.

रिपोर्टः एजेंसियां/निर्मल

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links