1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

भारत से करारी हार की समीक्षा करेगा न्यूजीलैंड

भारत के हाथों वनडे सीरीज में 5-0 से करारी हार के बाद न्यूजीलैंड में हार के कारणों पर मंथन शुरू हुआ. बांग्लादेश के बाद भारत में भी टीम की शर्मनाक हार का सिलसिला जारी रहा लेकिन डेनियल वेटोरी की कप्तानी को खतरा नहीं.

default

एकदिवसीय श्रृंखला में भारत से 5-0 से हारने के बाद न्यूजीलैंड की क्रिकेट टीम स्वदेश लौट आई है. न्यूजीलैंड के लिए हार इसलिए भी दुखदायी है क्योंकि भारत अपने कई स्टार खिलाड़ियों के बिना ही सीरीज खेल रहा था और कप्तानी की बागडोर गौतम गंभीर के हाथों में रही. भारत आने से पहले बांग्लादेश ने भी न्यूजीलैंड को 4-0 से पटखनी देकर उसे सन्न कर दिया था. एकदिवसीय मैचों में न्यूजीलैंड लगातार 11 मैच हार चुका है.

Der indische Cricketspieler Gautam Gambhir

इससे पहले इतना खराब प्रदर्शन न्यूजीलैंड ने 1990 के दशक में किया जब उसने लगातार 13 मैच हारे. लेकिन फिलहाल उसके प्रदर्शन को देखते हुए कीवी क्रिकेट जगत को आशंका है कि उस प्रदर्शन को टीम जल्द ही पीछे छोड़ सकती है. न्यूजीलैंड क्रिकेट के चीफ एक्जीक्यूटिव जस्टिन वॉन ने कहा है कि भारत के दौरे की समीक्षा में अभी कुछ दिन लगेंगे और उसके बाद ही वर्ल्ड कप के लिए बदलावों पर चर्चा होगी.

न्यूजीलैंड हेराल्ड अखबार को वॉन ने बताया कि वह डेनियल वेटोरी को कप्तानी से हटाने की नहीं सोच रहे हैं. "हमें समीक्षा से गुजरना है और फिर देखना है कि प्रदर्शन में सुधार लाने के लिए कौन से विकल्पों को आजमाया जाना चाहिए. लेकिन मुझे नहीं लगता कि कप्तान को हम बदलने की सोचेंगे." वॉन के मुताबिक वह वेटोरी, टीम मैनेजर डेव करी, कोच मार्क ग्रेटबैच के साथ बात करेंगे.

वॉन ने संकेत दिए हैं कि न्यूजीलैंड के पूर्व सलामी बल्लेबाज जॉन राइट को कोच बनाने पर विचार नहीं किया जा रहा है. "मैं समझता हूं कि लोग उन्हें वापस टीम के साथ देखना चाहते हैं. उनका अच्छा अंतरराष्ट्रीय रिकॉर्ड रहा है लेकिन मुझे लगता है कि अभी हम मार्क ग्रेटबैच के चयन से खुश हैं और वैसा ही रखना चाहेंगे." न्यूजीलैंड में आवाज उठ रही है कि मार्क ग्रेटबैच के बजाए जॉन राइट को कोच बनाया जाना चाहिए क्योंकि उन्हें भारतीय उपमहाद्वीप की पिचों का ज्यादा अनुभव है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: महेश झा

DW.COM