1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

भारत सरकार ने गूगल कंपनी को नोटिस थमाया

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को नक्शे में पाकिस्तान का हिस्सा दिखाने पर गूगल कंपनी मुश्किल में पड़ गई है. भारत सरकार ने उसे नोटिस देकर जल्द से जल्द इस 'गलती' को सुधारने के लिए कहा है. गूगल 'गलती' सुधारने में लगी.

default

गूगल दुनिया में सबसे लोकप्रिय सर्च इंजन माना जाता है और इसके अलावा वह कई अन्य सेवाएं मुहैया कराता है. इन्हीं में एक है गूगल इनसाइट्स फॉर सर्च. गूगल इनसाइट्स फॉर सर्च ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को नक्शे में पाकिस्तान का हिस्सा दिखा दिया. भारत सरकार गूगल की इस 'गलती' से नाराज है.

टेलीकॉम और आईटी मामलों के राज्यमंत्री सचिन पायलट का कहना है, "भारतीय नक्शे या देश की सीमाओं को गलत तरीके से पेश करने के मामले में इंडिया इनफॉरमेशन टेक्नॉलजी एक्ट के दायरे में कार्रवाई हो सकती है. गूगल से कहा गया है कि वह जल्द से जल्द अपनी गलती को सुधारे."

Screenshot der Seite google.maps

गूगल को नोटिस

सचिन पायलट के मुताबिक आईटी विभाग को आदेश दिए गए हैं कि सभी कंपनियों की ओर से जारी नक्शों की जांच कर देखा जाए कि कहीं कोई गलत नक्शा तो पेश नहीं किया गया है.

न्यूज एजेंसी पीटीआई ने गूगल से जब संपर्क साधा तो उसने बताया कि गूगल इनसाइट्स फॉर सर्च से गलती सुधारने के लिए कह दिया गया है. वहीं सचिन पायलट का कहना है कि सरकार अभी गूगल के जवाब की प्रतीक्षा कर रही है और सही समय आने पर सही कदम उठाएगी. वैसे यह पहला मौका नहीं है जब नक्शे की वजह से गूगल मुश्किल में फंसी है.

2005 में गूगल अर्थ को तब नाराजगी झेलनी पड़ी जब भारतीय उपमहाद्वीप के राजनीतिक नक्शे में पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर को पाकिस्तान का हिस्सा दिखाया गया. पिछले साल गूगल के सैटेलाइट नक्शे में अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों को इस तरह से दिखाया गया मानो वे चीन का हिस्सा हों. पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम भारत में संवेदनशील स्थानों की गूगल के नक्शों में उपलब्धता पर चिंता जता चुके हैं जिसके बाद गूगल उन्हें सेंसर करने के लिए राजी हो गया था.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: आभा एम

DW.COM