1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारत में सुलगते नोटों की गर्मी

भारत में नोट संकट का व्यापक असर दिखने लगा है. प्रधानमंत्री की अपील के बाद सरकार ने देर रात कुछ फैसले किये. अब 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोट कुछ जरूरी सेवाओं के लिए 24 नंवबर तक मान्य होंगे.

भारतीय बैंक, मुद्रा की भारी मांग के साथ तालमेल नहीं बैठा पा रहे हैं. यही वजह है कि रविवार को तीन रैलियों में जनता से 50 दिन साथ देने की भावुक अपील करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रात में कैबिनेट के अहम मंत्रियों के साथ बैठक की. बैठक के बाद सरकार ने हाउसहोल्ड यूटिलिटी बिल्स, टैक्स, फीस, सरकारी अस्पताल और को-ऑपरेटिव स्टोर्स में 500 और 1,000 पुराने नोट 24 नवंबर तक जारी रखने का फैसला किया है.

भारत में 8 नवंबर की रात से 500 और 1,000 रुपये के नोटों पर पाबंदी लगाई जा चुकी है. भारतीय मुद्रा बाजार में करीब 80 फीसदी हिस्सा 500 और 1,000 के नोटों का था. एकाएक 14,00,000 करोड़ रुपये के नोटों के अमान्य होने से देश में नई मुद्रा की कमी महसूस की जा रही है.

(नोटों पर हंसते, रोते भारतीय)

रविवार को कुछ और फैसले भी किये गए. अब एटीएम से एक बार में 2,000 की जगह 2,500 रुपये निकाले जा सकेंगे. वहीं बैंक खाते से 4,000 की जगह 4,500 रुपये निकाले जा सकेंगे. भारत की लाखों एटीएम मशीनों में फिलहाल 500 और 2,000 रुपये के नये नोट नहीं डाले गए हैं. असल में मशीन के भीतर नोट रखने की जगह (कैसेट) का आकार रिसेट करने के बाद ही अलग आकार के नए नोट डाले जा सकेंगे. पहले एटीएम में एक बार में करीब 40 लाख रुपये डाले जा सकते थे. लेकिन 100-100 के नोट डालने की वजह से मशीन में एक बार में करीब 7.5 लाख रुपये ही भरे जा सकते हैं. यही वजह है कि देश भर में एटीएम भी फटाफट खाली हो रहे हैं. वित्त मंत्रालय का कहना है कि एटीएमों को कैलिब्रेट कर नयी मुद्रा अगले दो दिन में देश भर के बैंकों में डाल दी जाएगी.

वक्त बीतने के साथ मुद्रा संकट के नाजुक होने के आसार भी हैं. देश के कई हिस्सों से ट्रकों के रास्ते में फंसे होने की खबरें भी आ रही हैं. कुछ ट्रांसपोर्टरों के मुताबिक ड्राइवर भी पैसे की कमी का सामना कर रहे हैं. देश भर में जगह जगह एटीएमों के बाहर लंबी लाइन लगी हुई है.

लेकिन इसके साथ ही देश भर में कई जगहों पर बड़े पैमाने पर नकदी भी बरामद हो रही है. देश के कई हिस्सों की तरह रविवार को पंजाब में रूटीन चेंकिंग के दौरान पुलिस ने 4.5 करोड़ रुपये जब्त किये. पश्चिम बंगाल के नॉर्थ दिनाजपुर में पुलिस ने एक कार से 1.60 करोड़ रुपये की नकदी जब्त की. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक नोटबंदी के बाद 48 घंटों के भीतर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के पास 55 करोड़ रुपये आए. 9 नवंबर से अब तक भारतीय बैंकिंग सेक्टर 1,50,000 करो़ड़ रुपये जमा हो चुके हैं. एक अनुमान के मुताबिक नोटबंदी के फैसले से भारतीय अर्थव्यवस्था में 45 अरब डॉलर आएंगे.

(रुपये का दिलचस्प सफर)

ओएसजे/एमजे (पीटीआई)

DW.COM