1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारत में राष्ट्रपति चुनाव की प्रकिया शुरू

भारत में नये राष्ट्रपति के चुनाव के लिए चुनाव आयोग ने अधिसूचना जारी कर दी है और इसके साथ ही चुनाव की प्रक्रिया औपचारिक रूप से शुरू हो गयी. वर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है.

अधिसूचना जारी किये जाने के बाद चुनाव आयोग द्वारा नियुक्त निर्वाचन अधिकारी एवं लोकसभा के महासचिव अनूप मिश्रा ने उम्मीदवारों के लिये नामांकन पत्र भरने के वास्ते सार्वजनिक नोटिस भी जारी कर दिया. यह राष्ट्रपति के लिए पंद्रहवां चुनाव है. देश के 14वें राष्ट्रपति का चुनाव 17 जुलाई को होगा. वोटों की गिनती तीन दिन बाद होगी. वर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को पूरा हो रहा है.

उम्मीदवार या उनके प्रस्तावक या अनुमोदक संसद भवन स्थित लोकसभा सचिवालय में 28 जून तक नामांकन पत्र दाखिल कर सकते हैं. नामांकन पत्रों की जांच 29 जून को होगी. प्रत्येक नामांकन पत्र के साथ उम्मीदवार को मतदाता सूची में दर्ज अपने नाम की प्रामाणिक प्रतिलिपि भी पेश करनी होगी और पंद्रह हजार रुपये की जमानत राशि जमा करनी होगी. कोई उम्मीदवार यदि अपना नाम वापस लेना चाहता है तो इसकी सूचना एक जुलाई तक देनी होगी.

भारत में राष्ट्रपति का चुनाव एक निर्वाचन मंडली द्वारा होता है जिसमें संसद के दोनों सदनों के सदस्यों के अलावा राज्यों के विधान मंडलों के सदस्य शामिल होते हैं. निर्वाचन समानुपातिक पद्धति से गोपनीय मतदान में होता है. क्षेत्रीय पार्टियों के सहयोग से भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले मोर्चे के चुनाव जीतने की संभावना है.

इस बीच राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का नाम तय करने के लिए विपक्षी दलों के नेताओं की कवायद तेज हो गयी है. राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने संसद भवन में विपक्षी नेताओं के साथ बातचीत के बाद कहा, "विपक्षी दलों के नेताओं की बैठक में किसी नाम पर चर्चा नहीं हुई लेकिन इसके लिए एक प्रक्रिया शुरू हो गयी है. इस संबंध में जल्द ही एक और बैठक होगी जिसमें नाम पर विचार किया जाएगा.” कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पिछले दिनों विपक्षी दलों के नेताओं को भोज पर आमंत्रित कर सबकी सहमति से उप समिति बनायी थी जिसमें नौ विपक्षी दलों के नेताओं शामिल किया गया है.

राष्ट्रपति उम्मीदवार के लिए आम सहमति बनाने के लिए सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने भी विपक्ष के नेताओं से बात करने की खातिर एक समिति बनायी है. इस समिति द्वारा संपर्क किये जाने संबंधी सवाल पर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि अभी तक सरकार की तरफ से उनसे संपर्क नहीं किया गया है. विपक्ष की बैठक में शामिल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता प्रफुल्ल पटेल, बहुजन समाज पार्टी के नेता सतीश मिश्रा तथा मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के सीताराम येचुरी ने कहा कि संसदीय कार्यमंत्री वेंकैया नायडु ने उनसे फोन पर बात की है.

एमजे/आरपी (वार्ता, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री