1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

भारत में बापू के करीब आना चाहते हैं ओबामा

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की भारत यात्रा के कार्यक्रम में कारोबार, राजनीति और आतंकवाद के अलावा महात्मा गाधी को करीब से जानने की ख्वाहिश भी है. अहिंसा के पुजारी बापू को ओबामा अपना आदर्श मानते हैं.

default

अमेरिकी राष्ट्रपति के दफ्तर ओवल हाउस में ओबामा ने बापू की तस्वीर जड़ाकर रखी है. गांधी का दर्शन और जीवन उन्हें प्रेरणा देता है. भारत यात्रा के दौरान ओबामा बापू को और करीब से जानना चाहते हैं. मुंबई में ओबामा गांधी म्यूजियम देखने जाएंगे और फिर उसके बाद दिल्ली के गांधी मेमोरियल का भी दौरा करेंगे. भारत जाने से पहले ओबामा बापू के बारे मे खूब सारी जानकारी जुटा रहे हैं. व्हाइट हाउस के एक अधिकारी ने बताया, "भारत दौरे से पहले राष्ट्रपति ने महात्मा गांधी के बारे में लोगों से जानकारी मांगी है, भारत यात्रा के दौरान भी वह बापू को करीब से जानने की अपनी इच्छा पूरी करना चाहते हैं."

राष्ट्रपति के रूप में पहली बार किसी देश की राजधानी के अलावा अन्य शहर में तीन दिन बिताने जा रहे राष्ट्रपति ओबामा सबसे पहले मुंबई के ताज होटल में एक संदेश देंगे. ओबामा इसी होटल में रुकने जा रहे हैं. यह होटल मुंबई हमलों के दौरान आतंकियों के निशाने पर था. यहां रुक कर ओबामा यह बताना चाहते हैं कि लोकतांत्रिक देश आतंकवाद के आगे नहीं झुकेंगे. इसके बाद वह गांधी म्यूजियम का दौरा करेंगे. म्यूजियम से लौटने के बाद दिन भर कारोबारियों और दूसरे अहम लोगों से मुलाकातों के लिए समय दिया गया है.

इसके अगले दिन ओबामा का एक स्कूल में जाने का कार्यक्रम है. इस दिन दिवाली भी है ओबामा इस पर्व का आनंद उठा सकें, इसके लिए भी खास इंतजाम किए जा रहे हैं. शाम को ओबामा टाउनहॉल में यूनिवर्सिटी के छात्रों से मुलाकात और चर्चा करेंगे. भविष्य की तस्वीर और भारत अमेरिका के रिश्तों पर इस दौरान बातचीत होगी.

अगले दिन वह दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे. दिल्ली में ओबामा सबसे पहले हुमायूं का मकबरा देखने जाएंगे. ओबामा की पत्नी मिशेल ताजमहल देखने आगरा जाना चाहती थीं, लेकिन व्यस्त कार्यक्रम होने के कारण ऐसा मुमकिन नहीं हो पा रहा. ऐसे में हुमायूं का मकबरा देखने का कार्यक्रम बनाया गया है. कहा जाता है कि इसी के डिजायन पर ताजमहल का नक्शा भी बना है. रात में ओबामा राष्ट्रपति के भोज में शामिल होंगे जबकि मिशेल प्रधानमंत्री और उनकी पत्नी के साथ भोजन करेंगी.

आठ नवंबर को ओबामा और उनकी पत्नी सबसे पहले राजघाट पर बापू की समाधि स्थल पर जाएंगे. वहां से लौटने के बाद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ उनकी मुलाकात होगी. दोनों नेताओं की मुलाकात के बाद राष्ट्रपति ओबामा शाम पांच बजे संसद भवन जाएंगे और सांसदों को संबोधित करेंगे. रात को प्रधानमंत्री निवास पर विशेष भोज में ओबामा की विशिष्ट लोगों से मुलाकात होगी. इस दौरान उनकी पत्नी भी उनके साथ होंगी. इसके अगले दिन 9 नवंबर को वो जकार्ता के लिए रवाना हो जाएंगे.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links