1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारत में फेसबुक के 10 करोड़

दुनिया के सबसे बड़े सोशल नेटवर्किंग साइट के भारत में 10 करोड़ यूजर हो गए हैं. फेसबुक का कहना है कि अमेरिका के बाद उसके सबसे ज्यादा यूजर भारत में हो गए हैं.

फेसबुक इंडिया के प्रमुख केविन डीसूजा का कहना है कि 1.2 अरब की आबादी वाले भारत में स्मार्टफोन का बाजार तेजी से बढ़ रहा है. यहां स्मार्टफोनों में इंटरनेट कनेक्शन बेहतर हो रहा है और फेसबुक यूजर बढ़ने की एक वजह यह भी है, "आज हमारे पास भारत में 10 करोड़ यूजर हैं, जो नियमित रूप से फेसबुक कर रहे हैं."

चार साल पहले फेसबुक ने हैदराबाद में अपना पहला दफ्तर खोला. इसके बाद से ही फेसबुक के यूजरों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. चार साल पहले तक भारत में सिर्फ 80 लाख फेसबुक यूजर हुआ करते थे. फेसबुक का कहना है कि आने वाले दिनों में वह भारत में कई लाख और यूजर बनाना चाहती है.

डीसूजा का कहना है, "अभी तो हमने शुरुआत भर की है. फेसबुक लोगों को शेयर करने की शक्ति देना चाहता है. यह चाहता है कि दुनिया और खुले, दूसरों से जुड़े." फेसबुक के कुल यूजर करीब 1.23 अरब लोग हैं और इस तरह फेसबुक की आबादी भारत की आबादी से भी ज्यादा है.

दुनिया भर के ज्यादातर देशों में यह सोशल नेटवर्किंग के मामले में पहले नंबर की वेबसाइट है. हालांकि रूस और चीन में ऐसा नहीं है. इन दोनों देशों में स्थानीय वेबसाइटों पर ज्यादा लोग जुड़ते हैं. इसी फरवरी में फेसबुक ने व्हाट्सऐप को खरीद लिया, जिसके बाद इसकी लोकप्रियता और बढ़ने का अनुमान लगाया जा रहा है.

Facebook WhatsApp

व्हाट्सऐप को खरीदा फेसबुक ने

भारत में करीब 17 करोड़ इंटरनेट सब्सक्राइबर हैं, जिनमें से आधे मोबाइल से इंटरनेट करते हैं. जानकारों का कहना है कि इस साल के आखिर तक भारत में ही फेसबुक के सबसे ज्यादा यूजर हो जाएंगे. कंपनी को उम्मीद है कि बचे हुए आठ महीनों में उसके पांच करोड़ यूजर बढ़ेंगे.

सोशल मीडिया कंसल्टिंग कंपनी बिजनेस ब्लॉगिंग के प्रमुख किरुबा शंकर का कहना है, "मौजूदा रफ्तार से भारत ही एकमात्र देश है, जो अमेरिका को पछाड़ सकता है. भारत में अभी भी बहुत से लोगों तक पहुंच नहीं है." उनका कहना है कि फेसबुक के बढ़ावे में स्मार्टफोन की बहुत बड़ी भूमिका होगी.

पिछले साल भारत में 4.4 करोड़ नए स्मार्टफोन बिके. माइक्रोमैक्स कार्बन जैसी कुछ स्थानीय कंपनियां सस्ते दामों पर स्मार्टफोन बेच रही हैं.

एजेए/एएम (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री