1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

भारत में नेपाली पासपोर्ट छपवाने का ऑर्डर रद्द

माओवादियों और अन्य पार्टियों के दबाव में आकर नेपाल की सरकार ने भारत में मशीन रीडेबल पासपोर्ट छपवाने के ऑर्डर को वापस ले लिया है. ये नेपाली पासपोर्ट भारत की एक सरकारी प्रेस में छपने थे.

default

कैबिनेट की बैठक के बाद नेपाल के संचार मंत्री और सरकार के प्रवक्ता शंकर पोखारेल ने बताया कि सरकार ने भारतीय प्रेस से पासपोर्ट छपवाने के ऑर्डर को वापस लेने का फैसला किया है.

नेपाल की सरकार ने हाल ही में चार डॉलर प्रति पासपोर्ट के हिसाब से भारत में पासपोर्ट छपवाने का फैसला किया था. नेपाल को जल्द से जल्द अत्याधुनिक पासपोर्ट चाहिए क्योंकि अंतरराष्ट्रीय नागरिक विमानन संगठन ने कहा है कि वह हाथ से लिखे हुए पासपोर्ट जारी करने बंद करे.

सोमवार को माओवादियों ने भारत में पासपोर्ट छपवाने के फैसले के विरोध में हड़ताल की. इसके बाद सरकार को अपने कदम पीछे हटाने पड़े हैं. इस फैसले के बाद माओवादियों ने भी अपनी हड़ताल खत्म कर दी है. उधर नेपाल के सुप्रीम कोर्ट ने भी अपने अंतरिम आदेश में कहा है कि इस मुद्दे पर पूरी तरह फैसला आने तक पासपोर्ट की छपाई का काम रोक दिया जाए.

संसद की सार्वजनिक लेखा समिति ने भी सरकार से भारतीय प्रेस में पासपोर्ट न छपवाने को कहा था. पिछले दिनों समिति के सामने अपने पेशी के दौरान प्रधानमंत्री माधव कुमार नेपाल ने कहा कि भारत के साथ राजनयिक और राजनीतिक संबंधों को देखते हुए यह ऑर्डर दिया गया था.

वैसे नेपाल मशीन रीडेबल पासपोर्ट जारी करने के बारे में अंतरराष्ट्रीय नागरिक विमानन संगठन की 1 अप्रैल की समयसीमा से पहले ही चूक गया है. नेपाल ने अब इस डेडलाइन को आगे बढ़ाने का आग्रह किया है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः एस गौड़

संबंधित सामग्री