1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

भारत में तलाक लेना होगा आसान

भारत सरकार ने तलाक की प्रक्रिया को आसान करने के लिए ठोस प्रस्ताव सामने रखे हैं. दावा है कि इससे बिगड़ते संबंधों में फंसे लोगों को फायदा होगा.

default

भारत की सूचना मंत्री अंबिका सोनी ने कहा कि कानून में बदलाव लाने के प्रस्ताव के मुताबिक अगर पति या पत्नी जानबूझकर अदालत नहीं आते तो तलाक की अर्ज़ी देने वाले व्यक्ति को तलाक मिलने में आसानी होगी.

भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल ने एक प्रस्ताव पारित किया है जिसके तहत अगर किसी शादी में सुधार की गुंजाइश न हो तो इस तर्क को क़ानूनी तौर पर तलाक लेने के

Ambika Soni

सूचना मंत्री अंबिका सोनी

लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. ऐसा भारत में पहली बार हो रहा है.

सुप्रीम कोर्ट की एक वकील कामिनी जायसवाल ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया कि इस कदम का इस युग में स्वागत किया जा रहा है. हालांकि इससे केवल शहरों में रहने वाली महिलाओं को फायदा होगा. गांव में रहने वाली महिलाएं वैसे ही अपने पतियों के शोषण का निशाना बनी रहती हैं. उन्होंने यह भी कहा कि शहरों में आजकल तलाक को सामाजिक स्वीकृति तो मिली है लेकिन तलाक मिलने में 6 महीने से लेकर 20 साल तक लग सकते हैं.

पिछले साल भारत के सर्वोच्च अदालत ने कहा था कि कानूनी ढांचे द्वारा शादियों को कायम रखने की कोशिश की जानी चाहिए लेकिन साथ ही पूरी तरह से अलग रहने वाले दमपत्तियों को तलाक देने से पीछे नहीं हटना चाहिए.

तलाक के सिलसिले में औपचारिक आंकड़ें तो नहीं हैं लेकिन कई विश्लेषकों का मानना है कि हर 1000 शादियों में 11 के तलाक हो जाते हैं. इसके मुकाबले अमेरिका में हर 1000 शादियों में से 400 टूट जाते हैं.

रिपोर्टःएजेंसियां/एम गोपालकृष्णन

संपादनः ए जमाल

संबंधित सामग्री