भारत में आईएस के पांच संदिग्ध गिरफ्तार | दुनिया | DW | 30.06.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारत में आईएस के पांच संदिग्ध गिरफ्तार

भारत की नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी ने हैदराबाद में पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. एजेंसी को शक है कि इस्लामिक स्टेट से जुड़े ये संदिग्ध भारत में कई हमले की फिराक में थे.

भारत की नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी ने हैदराबाद में पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. एजेंसी को शक है कि इस्लामिक स्टेट से जुड़े ये संदिग्ध भारत में कई हमले की फिराक में थे.

नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) ने बुधवार को हैदराबाद पुलिस के साथ मिलकर 11 जगहों पर छापे मारे. इस दौरान जांचकर्ताओं ने हथियार, विस्फोटक और नकदी भी बरामद की. एजेंसी ने 11 लोगों को हिरासत में लिया. पूछताछ के बाद उनमें से पांच गिरफ्तार किया. उनकी उम्र 24 से 32 साल के बीच है. एनआईए के आईजी संजीव कुमार के मुताबिक संदिग्ध इस्लामिक स्टेट के लिए काम कर रहे थे. बाकी छह को रिहा कर दिया गया.

पांचों पर भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने का आरोप है. अब पुलिस और एजेंसी को 90 दिन के भीतर चार्जशीट पेश करनी होगी. पहचान गुप्त रखने की शर्त पर एक जांच अधिकारी ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहा, "हमारे पास इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि संदिग्ध आईसिस के लिए काम कर रहे थे और वो सीरियाई नेताओं के सीधे संपर्क में थे." संदिग्धों पर लंबे समय से नजर रखी जा रही थी.

इस्लामिक स्टेट भारत में अपनी नेटवर्क फैलाने की बहुत कोशिश कर रहा है. लेकिन उसे खासी मुश्किल हो रही है. मुस्लिम आबादी के लिहाज से भारत दुनिया का दूसरा बड़ा देश है. उसे बहुत कम लोग मिले हैं.

भारतीय खुफिया एजेंसी की नजर उन लोगों पर टिकी है जो बीते सालों में सीरिया और इराक गए हैं. दुनिया भर की खुफिया एजेंसियों के रिपोर्टों के मुताबिक कुछ भारतीय भी सीरिया और इराक में इस्लामिक स्टेट के लिए काम कर रहे हैं. इस्लामिक स्टेट दुनिया में इस्लामिक खिलाफत लागू करना चाहता है.

मई 2016 में एक वीडियो भी सामने आया, जिसमें इस्लामिक स्टेट के भारतीय लड़ाके गुजरात के दंगों में मारे गए मुसलमानों की मौत का बदला लेने का एलान किया था. 2002 में गुजरात में दंगे हुए जिनमें करीब 1,500 लोग मारे गए. मरने वालों में ज्यादातर मुसलमान थे. दंगे गोधरा के बाद साबरमती एक्सप्रेस के एस-6 कोच में आग लगाने के बाद भड़के. कोच में अध्योध्या से वापस लौट रहे लोग सवार थे.

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री