1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

भारत की लड़खड़ाई पारी को सचिन के शतक का सहारा

चार खिलाड़ियों के जल्दी-जल्दी आउट होने के बाद सचिन के शतक ने टीम इंडिया की लड़ख़ड़ाई पारी संभाल दी है. सचिन ने पांचवे विकेट के लिए रैनी की साझेदारी में 141 रन जोड़े. लक्ष्य अब भी पहुंच से काफी दूर.

default

कोलंबो टेस्ट में बुधवार की सुबह जिस तरह से एक के बाद एक कर भारतीय खिलाड़ी पवेलियन लौटे, उसने भारतीय फैन्स को एक बार फिर करारी शिकस्त देखने के लिए मानसिक रूप से तैयार कर दिया. भला हो सचिन का, जो विकेट के आगे अड़ गए. सचिन ने ना सिर्फ अपना 48वां टेस्ट शतक लगाया बल्कि टीम की लड़ख़ड़ाई पारी में भी जान भर दी. दूसरे छोर से सुरेश रैना ने भी बखूबी साथ निभाया और 66 रन बनाए. दिन का खेल खत्म होने तक दोनों खिलाड़ी मैदान पर डटे रहे और टीम का स्कोर 384 पर पहुंचा दिया. सचिन ने अब तक 108 रन बनाए हैं.

Sachin Tendulkar

टेस्ट क्रिकेट में 48वां शतक

इससे पहले तो श्रीलंका के विशाल स्कोर के जवाब में भारतीय बल्लेबाज़ी दम तोड़ती ही नज़र आ रही थी. तीसरे दिन के खेल में भारत के चार खिलाड़ी जल्दी ही आउट हो गए जबकि सामने है 642 रनों का पहाड़ जैसा लक्ष्य.

सहवाग, द्रविड़, और मुरली विजय के बाद वीवीएस लक्ष्मण भी पैवेलियन लौट गए हैं. लक्ष्मण को मेंडिस ने 29 के स्कोर पर आउट किया. टीम इंडिया को बुधवार को सबसे पहला झटका सहवाग ने आउट होकर दिया, जो रणदीव की गेंद पर छक्का मारने के चक्कर में स्टंप हो गए. सहवाग मैदान पर जम गए थे और उनका शतक पूरा होने में अब बस एक रन की कमी थी कि वह आउट हो गए.

टीम अभी संभली भी नहीं थी कि मुरली विजय भी मेंडिस की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हो गए. स्कोर अभी 169 ही हुआ था. मुरली ने इसमें 56 रनों का योगदान दिया. टीम को तीसरा झटका राहुल द्रविड़ के रुप में लगा जो महज़ दो रन बनाकर रणदीव की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हो गए. यह तो रही सलामी बल्लेबाजों की कहानी अब क्रीज पर तेंदुलकर और सुरेश रैना हैं. ताज़ा समाचार मिलने तक तेंदुलकर ने 69 रन बनाए हैं जबकि रैना 32 रन बनाकर खेल रहे हैं.

गेंदबाजों ने तो पहले ही श्रीलंकाई शेरों के सामने घुटने टेक दिए थे. अब बल्लेबाज़ भी उन्हीं की राह पर कदमताल करते नज़र आ रहे हैं. अगर भारत को मैच में वापस लौटना है तो बुधवार का खेल खत्म होने तक कम से कम रनों के आंकड़े को 500 के पार ले जाना होगा जो फिलहाल बहुत मुश्किल दिख रहा है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ एन रंजन

संपादनः ए कुमार

DW.COM