1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारत और फ्रांस में परमाणु ऊर्जा करार

भारत और फ्रांस ने अरबों डॉलर के एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं जिसके तहत फ्रांस भारत में दो परमाणु बिजली संयंत्र बनाएगा. फ्रांसीसी राष्ट्रपति निकोला सारकोजी के भारत दौरे में और भी कई समझौते हुए.

default

हो गया करार

फ्रांस की मुख्य परमाणु बिजली कंपनियों में से एक अरेवा एसए महाराष्ट्र के जैतापुर में 1,650 मेगावाट के दो रिएक्टर तैयार करेगी. 9.3 अरब डॉलर के इस समझौते पर नई दिल्ली में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और राष्ट्रपति सारकोजी ने हस्ताक्षर किए. भारत अपनी बढ़ती ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए देश में 20 परमाणु रिएक्टर लगाना चाहता है. सारकोजी के चार दिन के भारत दौरे में फ्रांस के साथ इस तरह के पहले दो रिएक्टरों पर समझौता हुआ.

बाद में दोनों नेताओं ने क्षेत्रीय सुरक्षा, व्यापार और निवेश पर भी बातचीत की. समझा जाता है कि इस बैठक में जी20 देशों के जरिए अंतरराष्ट्रीय मुद्रा व्यवस्था में ढांचागत सुधारों की योजना पर बात हुई, जिसका मौजूदा प्रमुख फ्रांस है. शनिवार को भारत के दौरे पर पहुंचे सारकोजी के साथ रक्षा, विदेश और वित्त मंत्रियों के अलावा 60 सदस्यों वाला व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल भी है.

फ्रांसीसी राष्ट्रपति की इस यात्रा के दौरान किसी रक्षा समझौते की उम्मीद नहीं है लेकिन सारकोजी फ्रांसीसी कंपनियों को सैन्य उपकरण के ठेके दिलवाने के लिए माहौल तैयार जरूर कर सकते हैं. फ्रांसीसी कंपनियां भारतीय वायुसेना के 51 मिराज-2000 लड़ाकू विमानों को अत्याधुनिक बनाने का ठेका हासिल करने के लिए कोशिश कर रही हैं. भारत 126 लड़ाकू विमान भी खरीदना चाहता है जिनकी कीमत लगभग 11 अरब डॉलर हो सकती है. इसके अलावा चार अरब डॉलर में 200 हेलीकॉप्टर भी खरीदे जा सकते हैं. रक्षा विशेषज्ञों के मुताबिक भारत सरकार अपनी सेना को आधुनिक बनाने पर 2012 से 2022 के बीच 80 अरब डॉलर खर्च कर सकती है.

राष्ट्रपति सारकोजी चाहते हैं कि भारतीय कंपनियां फ्रांस में निवेश करें. असल में फ्रांस भी भारत की तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था से फायदा उठाना चाहता है. दोनों देशों के बीच 2009 में व्यापार में कमी आई जिसकी वजह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वित्तीय मंदी को बताया जा रहा है. लेकिन भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विष्णु प्रकाश ने बताया कि इस साल व्यापार तेजी से पटरी पर लौट रहा है. दोनों देशों ने 2012 के लिए 12 अरब यूरो के व्यापार का लक्ष्य तय किया है. मंगलवार को स्वदेश रवाना होने से पहले सारकोजी मुंबई भी जाएंगे.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links