1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

भारत अमेरिकी आर्थिक साझेदारी

भारत और अमेरिका ने आपसी व्यापार और निवेश को आगे बढ़ाने के लिए आर्थिक और वित्तीय साझेदारी का का कार्यक्रम शुरु किया है.

default

अमेरिकी वित्तमंत्री टिमोथी गेथनर

भारत की यात्रा पर आए अमेरिकी वित्त मंत्री टिमोथी गेथनर और भारतीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने आज नई दिल्ली में साझेदारी के इस कार्यक्रम की शुरुआत की घोषणा की. इसका मुख्य लक्ष्य वित्तीय प्रणाली व आंतरिक संरचना जैसे क्षेत्रों में निवेश बढ़ाना और नए कार्यस्थानों का निर्माण है. पिछले नवंबर में भारतीय प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह की अमेरिका यात्रा के दौरान राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इस कार्यक्रम की घोषणा की थी.

गेथनर भारत की दो दिनों की यात्रा पर आए हैं. नई दिल्ली में उन्होंने प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह से भी मुलाकात की. वित्त मंत्री से बातचीत के बाद उन्होंने पत्रकारों से कहा कि दोनों देशों के आर्थिक संबंधों की विशाल संभावनाएं हैं. उन्होंने ध्यान दिलाया कि एक ऐसे समय में इनके विस्तार की पहल ली जा रही है, जब दोनों देशों के आर्थिक जगत में वृद्धि की संभावनाएं देखी जा रही हैं, और विश्व अर्थनीति की बेहतरी शुरु हो चुकी है.

भारतीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने कहा कि भारत और अमेरिका लोकतंत्र, बाज़ार अर्थनीति और बहुलवाद जैसे मूल्यों के ज़रिये आपस में जुड़े हुए हैं. उन्होंने आशा व्यक्त की कि इस साझेदारी से दोनों देशों की जनता की उर्जा आगे बढ़ेगी और विश्वव्यापी चुनौतियों का सामना करने में मदद मिलेगी.

अमेरिका भारत का सबसे बड़ा व्यापार साझेदार है और सबसे मह्त्वपूर्ण प्रत्यक्ष निवेश का स्रोत है. सन 2009 में दोनों देशों के बीच व्यापार 40 अरब डालर के बराबर रहा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उभ

संपादन: राम यादव

संबंधित सामग्री