1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारतीय सेना के तीन साल में 37 क्रैश

हर महीने एक विमान या हैलिकॉप्टर क्रैश. ये भारतीय सेना का औसत है. करोड़ों डॉलर की लागत से खरीदे जाने वाले विमान करीबन हर महीने हादसों का शिकार होते हैं.

मई 2014 से लेकर अब तक भारतीय सेना के 37 विमान और हैलिकॉप्टर क्रैश हो चुके हैं. औसत निकाला जाए तो हर महीने एक हादसा. इन हादसों में 55 लोग मारे गये. यह आंकड़े रक्षा राज्य मंत्री ने दिये हैं. रक्षा मंत्रालय के मुताबिक बीते तीन साल में सेना ने 25 विमान और 12 हैलिकॉप्टर गंवाये. इसमें 900 करोड़ रुपये में अमेरिका से खरीदा गया सी-130 हरक्यूलिस विमान भी शामिल है. भारतीय मीडिया के मुताबिक नया नवेला हरक्यूलिस विमान पायलट की गलती से क्रैश हुआ.

संसद में एक लिखित सवाल का जवाब देते हुए रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भामरे ने बताया कि हादसे इंसानी गलती और तकनीकी खामी के चलते हुए. रक्षा मंत्रालय के मुताबिक हर हादसे की गहराई से जांच की गयी. कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के सुझावों को अमल में भी लाया गया. हालांकि यह बात सामने नहीं आयी कि तकनीकी खामी क्यों देखने को मिली, क्या वहां भी किसी किस्म की लापरवाही थी.

भारत लड़ाकू विमान, पनडुब्बियां और युद्धपोत विदेशों से खरीदता है. ये सौदे अरबों डॉलर के होते हैं. कई साल के मोल भाव के बाद ये सौदे फाइनल होते हैं. और उसके बाद खरीदे गये सामान का यह हाल हो रहा है. मानव संसाधन, पैसा और मशीनी उपलब्धता के लिहाज से यह बड़ा नुकसान है.

(सबसे सुरक्षित और असुरक्षित एयरलाइंस)

ओएसजे/एके (पीटीआई)

DW.COM

संबंधित सामग्री