1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारतीय राज्यों की चुनाव तारीख तय

भारतीय जनता 11 नवंबर से दागी और नापसंद नेताओं को नकारना शुरू कर देगी. चुनाव आयोग ने इस साल पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख तय कर दी है. इसमें मतदाता ये अधिकार इस्तेमाल कर सकेंगे.

राजस्थान, मध्य प्रदेश, दिल्ली और मिजोरम में एक ही चरण में चुनाव होंगे जबकि नक्सल प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ में दो चरणों में मतदान होगा. 2014 के लोकसभा चुनावों से पहले हो रहे इन चुनावों को सत्ता का सेमीफाइनल कहा जा रहा है. शुक्रवार को चुनाव आयोग ने कार्यक्रम का एलान किया. एलान के साथ ही इन राज्यों में चुनाव आचार संहिता भी लागू हो गई है.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक इस बार चुनावों में मतदाताओं को सभी उम्मीदवारों को खारिज करने का अधिकार भी दिया जाएगा. वोटिंग मशीन में 'राइट टू रिजेक्ट' का विकल्प होगा. इसके लिए चुनाव आयोग को बड़ी तैयारियां करनी होंगी और इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन में इस विकल्प के लिए अलग बटन बनाना होगा. हालांकि अभी ये साफ नहीं हो सका है कि नेताओं को नकारने वाला ये बटन मशीनों में किस जगह होगा.

चुनाव कार्यक्रम इस प्रकार है:

छत्तीसगढ़ (90 सीटें): 11, 19 नवंबर

मध्य प्रदेश (230 सीटें): 25 नवंबर

राजस्थान (200 सीटें): 1 दिसंबर

दिल्ली (70 सीटें): 4 दिसंबर

मिजोरम (40 सीटें): 4 दिसंबर

अलग अलग राज्यों में सुरक्षा व्यवस्था की वजह से चुनावों की तारीख अलग अलग तय की गई है. लेकिन सभी जगह के वोटों की गिनती एक साथ की जाएगी. ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि किसी एक प्रदेश के चुनाव परिणामों का असर दूसरे राज्य के चुनावों पर न पड़े. लिहाजा आयोग ने 8 दिसंबर को सभी राज्यों के वोटों की गिनती कराने का फैसला किया है. वोटिंग मशीनों के इस्तेमाल की वजह से नतीजे कुछ ही घंटों में आ जाते हैं. चुनावों में पारदर्शिता और लोगों की भावनाओं को प्रभावित करने से रोकने के लिए टेलीविजन चैनलों पर भी एग्जिट पोल कराने की पाबंदी लगाई जा चुकी है. मतदान खत्म होने के बाद ही टीवी चैनल पहला एग्जिट पोल कर सकते हैं.  

ओएसजे/एजेए

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री