1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारतीय राजनयिक के परिवार को ब्रिटेन छोड़ना होगा

पत्नी को पीटने का आरोप झेल रहे भारतीय राजनयिक अनिल वर्मा के तबादले के बाद ब्रिटेन ने साफ किया है कि उनकी पत्नी पारोमिता वर्मा को भी ब्रिटेन छोड़ कर जाना होगा. ऐसी रिपोर्टें हैं कि पारोमिता ब्रिटेन में शरण लेना चाहती हैं.

default

भारतीय राजनयिक अनिल वर्मा की पत्नी पारोमिता वर्मा ने जान को खतरे का हवाला देते हुए ब्रिटेन में रहने की इजाजत मांगी है. अनिल वर्मा पर पत्नी को कथित रूप से पीटे जाने का मामला है.

ब्रिटेन के विदेश और कॉमनवेल्थ ऑफिस ने बुधवार को भारतीय उच्चायोग को सूचित किया है कि उसे यह जानकारी मिल गई है कि भारत सरकार ने अनिल वर्मा को वापस भारत बुलाने का फैसला किया है. इस फैसले के चलते ब्रिटेन का कहना है कि अनिल वर्मा के आश्रितों को भी ब्रिटेन छोड़ कर जाना होगा.

तबादले के बाद

भारत सरकार ने अनिल वर्मा का तबादला दिल्ली कर दिया है और ब्रिटेन से अनुरोध किया है कि वर्मा परिवार के बाकी सदस्यों को वापस भेजने की प्रक्रिया में उन्हें मदद दी जाए. इससे पहले ब्रिटेन ने भारत से मांग की थी कि या तो अनिल वर्मा के खिलाफ भारतीय कानून के तहत कार्रवाई की जाए या फिर राजनयिक को मिले विशेषाधिकार वापस ले लिए जाएं और ब्रिटेन में कार्रवाई करने का रास्ता साफ किया जाए. भारत ने पहला विकल्प अपनाते हुए राजनयिक अनिल वर्मा को वापस देश बुला लिया और अब भारत में उन पर मुकदमा चलेगा.

सबको जाना होगा

ब्रिटेन के विदेश विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि उन्हें इस बात की जानकारी है कि अनिल वर्मा का तबादला भारत किया जा रहा है और इस वजह से उनके परिवार के बाकी सदस्यों को भी ब्रिटेन छोड़कर जाना होगा. जब उनसे पूछा गया कि क्या अनिल वर्मा की पत्नी पारोमिता वर्मा ने ब्रिटेन में शरण मांगी है तो उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत आवेदनों पर वह कोई टिप्पणी नहीं कर सकते.

कौन हैं अनिल वर्मा

पश्चिम बंगाल कैडर के आईएएस अधिकारी अनिल वर्मा का तबादला अगस्त 2009 में ब्रिटेन के भारतीय उच्चायोग में किया गया. यहां वह मंत्री (आर्थिक) के रूप में काम कर रहे थे. उनके साथ ब्रिटेन में उनकी पत्नी पारोमिता, सास और दो बेटे रह रहे हैं. पारोमिता भारतीय रेलवे के लिए काम करती हैं और फिलहाल लंदन में दो साल के लिए छुट्टी पर थीं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: वी कुमार

DW.COM

WWW-Links