1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

भारतीय मूल की मिस अमेरिका

अमेरिका में पहली बार भारतीय मूल की युवती के सिर मिस अमेरिका का ताज सजा है. ताज के साथ प्रतिक्रियाओं में नस्लभेदी ट्वीट्स भी हैं जिसमें उन्हें 'अरब आतंकी' जैसा दिखने वाला बताया गया है.

24 साल की नीना दावुलुरी मिस अमेरिका 2014 हैं. वे डॉक्टर बनना चाहती हैं. रविवार की रात को उन्होंने अटलांटिक सिटी पेजेंट में बॉलीवुड डांस किया जिसमें वह अमेरिका में विविधता की जीत दिखाना चाहती थीं. उन्होंने एबीसी टीवी से बातचीत में कहा, "मिस अमेरिका के स्टेज पर पहली बार बॉलीवुड डांस पेश हुआ. यह मेरे और मेरे समुदाय के लिए गर्व की बात है. आधे डांस के बाद मैं रोने लगी क्योंकि उस स्टेज पर होना बहुत ही शानदार अनुभव था. "

नीना इस जीत से बहुत खुश हैं हालांकि उन पर कई तरह की नस्लवादी बयानबाजी ट्विटर पर की गई हैं. नीना का कहना है, "मुझे इससे उपर उठना होगा. मैं खुद को हमेशा पहले अमेरिकी की तौर पर देखती हूं. "

कई लोगों ने हिंदू धर्म को मानने वाली नीना को अरब आतंकवादियों जैसी दिखने वाली बताया. ल्यू ब्रासिली नाम के एक शख्स ने लिखा है, "9/11 चार ही दिन पहले था और उसे अब मिस अमेरिका मिल रहा है." ट्वीटर के एक यूजर कार्ल शैरो ने कहा, "अल कायदा ने उदारवादी जजों को प्रभावित कर दिया."

दावुलुरी का मुद्दा था, "सांस्कृतिक योग्यता से विविधता का जश्न मनाना." दावुलुरी ने कहा, "मुझे बहुत खुशी है कि संगठन ने विविधता को अपना लिया है. मुझे खुशी है कि घरों में जो बच्चे इस प्रतियोगिता को देख रहे हैं वे अब न्यू मिस अमेरिका से खुद को जोड़ सकेंगे."

2014 में मिस अमेरिका के तौर पर नीना अपने मुद्दों और विचारों को लोगों तक पहुंचाने के लिए यात्रा करेंगी.

एएम/एनआर (एएफपी, एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री