1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

भारतीय बॉक्सिंग संघ की भी छुट्टी

ओलंपिक समिति से निकाले जाने के बाद भारत के बॉक्सिंग संघ को भी निलंबित कर दिया गया है. हाल में हुए विवादित चुनाव के बाद यह फैसला किया गया. मेरी कोम सहित कई भारतीय मुक्केबाजों का भविष्य दांव पर.

अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी परिसंघ ने भारतीय मुक्केबाजी संघ (आईएबीएफ) को निलंबित करते हुए कहा है कि हमें इस बात का शक है कि हाल के चुनावों में धांधली हुई है. हालांकि आईएबीएफ ने इस आरोप से इनकार किया है.

इस फैसले से भारतीय मुक्केबाज स्तब्ध हैं. अभी तीन दिन पहले ही भारत के ओलंपिक संघ को अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने बर्खास्त कर दिया है. उस पर भ्रष्टाचार के आरोपी ललित भनोत को चुनाव लड़ने की इजाजत देने का आरोप है, जो कॉमनवेल्थ गेम्स से जुड़े घोटाले में 11 महीने जेल में रह चुके हैं.

आईएबीए ने बयान जारी करते हुए कहा, "भारतीय ओलंपिक संघ पर लगाई गई पाबंदी के बाद अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी परिसंघ की कार्यकारिणी बैठक में फैसला किया गया है कि भारतीय मुक्केबाजी संघ को भी अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया जाए."

इसमें कहा गया है कि यह फैसला इसलिए भी किया जा रहा है क्योंकि आईएबीए को रिपोर्टें मिली हैं कि भारतीय मुक्केबाजी संघ के चुनाव में भी संभावित धांधली हुई है. बयान में कहा गया, "आईएबीए अब इन आरोपों की जांच करेगा. खास तौर पर भारतीय मुक्केबाजी के पूर्व अध्यक्ष के बारे में, जिनका राजनीति से गहरा संबंध है."

भारतीय मुक्केबाजी संघ के अध्यक्ष हरियाणा के अभय चौटाला थे, जिन्होंने सितंबर में पद छोड़ा. वह फिलहाल भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष चुने गए हैं क्योंकि उनके खिलाफ कोई उम्मीदवार नहीं था. हालांकि अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने इस चुनाव को मानने से इनकार कर दिया है.

भारत में ज्यादातर खेल संगठनों में राजनीति का बोलबाला है. कांग्रेस सांसद सुरेश कलमाड़ी लंबे वक्त तक भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष रहे, जिनके कार्यकाल में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में भारी घोटाले की बात आई. इसके बाद उन्हें जेल भी जाना पड़ा. इसी तरह बीजेपी के विजय कुमार मल्होत्रा और भारतीय लोकदल के अभय चौटाला भी राजनीति में होने के बावजूद खेलों के अहम पद पर तैनात हैं.

अभय चौटाला के ओलंपिक संघ का अध्यक्ष बनने के बाद उनके जीजा और बीजेपी के नेता अभिषेक मटोरिया को भारतीय बॉक्सिंग संघ का अध्यक्ष चुना गया है. निलंबित किए जाने के बाद मटोरिया ने हैरानी जताते हुए कहा, "आईएबीए ने चुनावों के बारे में पूछा है और हमने उन्हें बता दिया है कि किसी तरह की धांधली नहीं हुई है. जिन लोगों को चुना गया है, उनके विरोध में कोई नहीं था. और सिर्फ निर्विरोध चुनाव की वजह से आईएबीए हम पर आरोप नहीं लगा सकता है."

उन्होंने कहा, "यह अस्थायी निलंबन है और हमें यकीन है कि इसे जल्द ही हटा लिया जाएगा. अगर जरूरत पड़ी तो मैं निजी तौर पर स्विट्जरलैंड के लुजाने शहर जाकर आईएबीए अधिकारियों से बात करूंगा."

उनका कहना है, "हमारे मुक्केबाजों को फिलहाल घबराने की जरूरत नहीं क्योंकि अगला प्रमुख मुकाबला अभी दूर है और तब तक मामले को सुलझा लिया जाएगा." अगले साल अगस्त में जूनियर और फिर अक्तूबर में सीनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप होनी है.

हालांकि अब भारतीय मुक्केबाजी संघ दोबारा चुनाव के संकेत दे रहा है. समाचार एजेंसी पीटीआई ने एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से कहा है कि "देखिए क्या होता है. हो सकता है कि दोबारा चुनाव कराए जाएं और आईएबीए के पर्यवेक्षकों को बुलाया जाए."

सितंबर में जो चुनाव हुए थे, उसमें खेल मंत्रालय ने उस बदलाव पर पाबंदी लगा दी थी, जिसके तहत अधिकारी अपने पद पर बने रह सकते थे.

निलंबित किए जाने के बाद भारतीय मुक्केबाज बुरी तरह परेशान हैं. वे इस वक्त पटियाला में कैंप कर रहे हैं. भारत के लिए बॉक्सिंग का पहला ओलंपिक पदक जीतने वाले विजेंदर सिंह ने कहा, "भारतीय बॉक्सिंग के लिए यह बुरा दिन है. मुझे समझ नहीं आ रहा है कि ऐसी चीजें क्यों हो रही हैं." चीन में कांस्य जीतने वाले विजेंदर को हालांकि उम्मीद है कि मामला सुलझ जाएगा.

भारत ने हाल के सालों में मुक्केबाजी में भारी सफलता हासिल की है. महिला मुक्केबाज मेरी कोम पांच बार विश्व चैंपियन बन चुकी हैं और इस साल लंदन में हुए ओलंपिक में उन्हें कांस्य पदक मिला है. अब उनकी जीवनी पर फिल्म बन रही है, जिसमें प्रियंका चोपड़ा मेरी कोम की भूमिका निभा रही हैं. इस फैसले से उनके करियर पर भी असर पड़ेगा.

एजेए/आईबी (रॉयटर्स, पीटीआई)

DW.COM

WWW-Links