1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारतीय प्रोग्राम दिखाए तो छिन जाएगा चैनल का लाइसेंस

पाकिस्तान में टीवी पर भारतीय फिल्में और सीरियल दिखाने वालों पर सख्ती की जा रही है. इस निर्देश को न मानने वाले चैनलों को अपना लाइसेंस भी गंवाना पड़ सकता है.

दोनों देशों के बीच तनाव के कारण पाकिस्तान में हिंदी फिल्में पहले ही बैन की जा चुकी हैं. अब टीवी पर भी सख्ती बढ़ रही है. पाकिस्तानी में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की नियामक संस्था पैमरा के प्रवक्ता ने कहा है, "भारत और पाकिस्तान के बीच हालिया तनाव को देखते हुए जनता मांग कर रही है कि भारतीय चैनल और कार्यक्रमों पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिए जाए.”

पाकिस्तानी कानून के मुताबिक कोई पाकिस्तानी चैनल दिन में ज्यादा से ज्यादा 86 मिनट तक भारतीय कार्यक्रम दिखा सकता है. लेकिन चैनल और केबल ऑपरेटर इन नियम की ज्यादा परवाह नहीं करते हैं और भारतीय सीरियल और फिल्में खूब दिखाते हैं. पाकिस्तान में भारतीय डारेक्ट टु होम सर्विस पर भी बैन है लेकिन उन्हें हर जगह देखा जा सकता है.

पैमरा ने मंगलवार को जारी एक बयान में कहा है कि संस्था के चेयरमैन को अधिकार दिया गया है कि गैर कानूनी रूप से भारतीय कार्यक्रम दिखाने वाले किसी भी चैनल का लाइसेंस खत्म या निलंबित कर दें. बयान के मुताबिक इसके किसी कारण बताओ नोटिस या फिर उन्हें अपनी कहने का मौका देने की भी जरूरत नहीं है. बयान में कहा गया है, "15 अक्टूबर के बाद नियम का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.”

इससे पहले पाकिस्तान के सिनेमा मालिकों ने कहा कि उन्होंने देश की सेना के साथ एकजुटता जताते हुए भारतीय फिल्में न दिखाने का फैसला किया है. ये फैसला पाकिस्तानी कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक के भारत के दावे के बाद किया गया. हालांकि पाकिस्तान ऐसी किसी सर्जिकल स्ट्राइक से इनकार करता है.

पैमरा ने सरकार से कहा है कि वह भारतीय कार्यक्रमों को पाकिस्तान में दिखाने की अनुमति इसी आधार पर दे कि भारत में भी पाकिस्तानी कार्यक्रमों को टीवी पर उतना ही समय दिया जाए. तनाव के बीच पिछले दिनों भारत में जी जिंदगी चैनल पर पाकिस्तानी सीरियल का प्रसारण बंद कर दिया गया.

एके वीके (रॉयटर्स, पीटीआई)

DW.COM

संबंधित सामग्री