1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

भद्दे डांस में नंबर वन

जर्मन शहर हैम्बर्ग में अग्ली डांस वर्ल्ड कप का आयोजन किया गया. जर्मनी के चार छात्रों ने भद्दे, घिनौने लेकिन इसके बावजूद हंसा देने वाले अपने नाच से लोगों का दिल जीता और प्रतियोगिता को अपने नाम कर लिया.

default

जीतने वाली टीम के कॉस्ट्यूम

अगली डांस प्रतियोगिता में ज़ाहिर है जजों को भी अलग अलग डांस ग्रुप्स में से सबसे भद्दे को चुनना होगा. अगली डांस का मतलब बुरा या बुरी तरह से नाचने से नहीं है. प्रतियोगिता के आयोजकों का कहना है, अच्छा नाचना आसान है, लेकिन अगली डांसिंग या भद्दा नाच बहुत मुश्किल है.प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाली टीमों को उनके भद्देपन, रचनात्मकता, अजीबो गरीब डांस स्टेप्स और उन्हें देखने में मज़े यानी फन फैक्टर के आधार पर अंक दिए गए.

भद्दापन भी शानदार

2009 से प्रतियोगिता के ज़रिए आयोजक नृत्य के अलग अलग स्टाइलों और अल्टर्नेटिव डांसिंग का प्रचार कर रहे हैं. आयोजकों का कहना है कि इस साल की विजेता टीम ने शानदार भद्देपने, घटिया पहनावे, मेक अप और खास 'शाइ डांस मूव' के जरिए वर्ल्ड कप अपने नाम कर लिया. विजेता जर्मन शहर फेष्टा से हैं. उनके साथ प्रतियोगिता में हिस्सा लेने जर्मनी, स्विट्ज़रलैंड और लक्जेम्बर्ग से टीमें आई थीं.

इंटरनेट पर सीखें

वैसे तो अग्ली डांसिंग का नाम बहुत लोगों ने नहीं सुना होगा, लेकिन इंटरनेट पर आजकल इसके वीडियो छाए हुए हैं. स्वीडन के पॉप ग्रुप फुलकुल्टूर ने अपनी एक खास अगली डांस वेबसाइट शुरू की है जहां लोग जाकर अगली डांस के मूव्ज़ सीख सकते हैं. वेबसाइट में हाथों को फ्रंट लेग्स और पैरों को हाइंड लेग्स कहा गया है. डांस की कुछ खास हरकतें होती हैं, यानी स्पेशल मूव्ज, जैसे की 'स्टिल' मूव जिसमें पैर एक जगह पर टिके रहते हैं लेकिन आप संगीत के साथ झूलते रहते हैं. या फिर 'स्टॉम्प' जिसमें आप केवल एक पैर को बार बार जमीन पर पटकते हैं. फ्रंट लेग्स यानी हाथों को आप 'स्वे' यानी झुला सकते हैं या फिर हवा में हिल रही पवनचक्की की तरह 'विंडमिल' मूव भी कर सकते हैं.

सबसे जरूरी है कि आप खुद अपने लिए एक सिग्नेचर मूव बनाए, यानी एक ऐसा डांस स्टेप जो आपकी पहचान बन जाए. कुल मिलाकर नाच देखकर शादियों में बैंड के साथ झूमते बारातियों की याद आती है. चाहे वह देखने में जैसा भी लगे, मजा तो आता ही है, नाचने वालों को भी और नाच देखने वालों को भी.

रिपोर्टः एजेंसियां/एम गोपालकृष्णन

संपादनः आभा एम

DW.COM

WWW-Links