1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

ब्रेस्ट कैंसर पर बोला भारत

अक्टूबर को दुनिया भर में ब्रेस्ट कैंसर जागरुकता के महीने के तौर पर मनाया जाता है. भारत में महिलाओं में जागरुकता की कमी के कारण ब्रेस्ट कैंसर के मामले बढ़ते जा रहे हैं. अब सोशल मीडिया के जरिए इस पर चर्चा की जा रही है.

स्तन कैंसर हो या गर्भाशय का कैंसर, या फिर मासिक धर्म से जुड़ी समस्याएं, महिलाओं की सेहत से जुड़ें मुद्दों काफी हद तक चर्चा नहीं होती. घरों और स्कूलों में इस पर खुल कर बात ना होने से समय रहते महिलाएं बीमारी को समझ नहीं पातीं. फिल्मी हस्तियां अब इसी वर्जना में खुल कर बोलने लगी हैं. बॉलीवुड के मशहूर गायक सोनू निगम ने एक वीडियो संदेश जारी कर कहा कि उन्होंने अपनी एक दोस्त को इसलिए खो दिया क्योंकि उसे स्तन कैंसर के बारे में जानकारी नहीं थी.

काजोल की बहन और बिग बॉस से मशहूर हुई तनीषा भी 'गो पिंक' नाम के कैम्पेन से जुड़ गयी हैं. ट्विटर पर उन्होंने लिखा है कि उनके परिवार में महिलाओं को स्तन कैंसर हुआ है. इसलिए उन्होंने 23 साल की उम्र में ही अपना टेस्ट करा लिया था. सोनू की तरह तनीषा भी यह संदेश दे रही हैं कि अगर वक्त रहते इस बीमारी का पता चल जाए तो इलाज मुमकिन है.

फिल्मी हस्तियों के अलावा आम लोग भी इस तरह के कैम्पेन से जुड़ रहे हैं, खास कर युवा. एक वीडियो के जरिए बताने की कोशिश की जा रही है कि 'ब्रेस्ट' शब्द सुन कर कितने कम लोग कैंसर के बारे में सोचते हैं और कैसे अधिकतर लोग इस पर बात करने से शर्मा जाते हैं.

फिलिप्स ने एक विज्ञापन जारी कर यह संदेश दिया है कि महिलाओं की सेहत के लिए पुरुष भी जिम्मेदार हैं. एक गूंगे बहरे जोड़े का यह वीडियो इंटरनेट में काफी लोकप्रिय हो गया है. वीडियो में दिखाया गया है कि कैसे महिलाएं रोज के काम में खुद के लिए समय नहीं निकाल पातीं और अपनी सेहत पर ध्यान नहीं देतीं. इसलिए जरूरी है कि पुरुष उनका हाथ बटाएं और जांच करने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करें.

ब्रेस्ट कैंसर की जांच के लिए डॉक्टर के पास जाना जरूरी नहीं है. थोड़ा वक्त निकाल कर इसे घर पर ही किया जा सकता है. टेस्ट करने के तरीकों के बारे में भारत सरकार ने जगह जगह पोस्टर लगाए हैं. अब इंटरनेट के माध्यम से भी कई संस्थाएं इन पोस्टरों का प्रचार कर रही हैं.

स्तन कैंसर से बचने के लिए जरूरी है कि इस बारे में बात की जाए क्योंकि इस से मुंह मोड़ लेना खतरनाक साबित हो सकता है.

DW.COM

संबंधित सामग्री