1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ब्रिटेन में ट्रक में मिले कश्मीरी

ब्रिटेन में एक ट्रक में 15 लोग पुलिस को मिले. ये कश्मीर और इरिट्रिया के निवासी हैं. तीन दिन पहले ऐसी ही अवैध यात्रा के दौरान एक आदमी की मौत हो गई थी. हत्या के संदेह में एक व्यक्ति को पकड़ा गया है.

पुलिस ने इन लोगों को तब निकाला जब सड़क पर जाने वाले लोगों ने एक ट्रक में से शोर सुना. यह ट्रक एक सर्विस स्टेशन पर खड़ा था.

दक्षिण पश्चिमी इंग्लैंड के टॉन्टन में एक ट्रक में 12 पुरुष और तीन महिलाएं पाए गए. पुलिस ने ट्रक चलाने वाले जर्मन चालक को गिरफ्तार कर लिया है. इन लोगों के स्वास्थ्य की जांच की गई. पुलिस ने बताया कि सभी अच्छी हालत में हैं, "कुल 15 लोग विपत्ति में पाए गए. इनमें महिलाएं, पुरुष और 15 साल का एक लड़का भी था. उन्होंने बताया कि वो इरिट्रिया और कश्मीर से हैं, वे काफी परेशान थे क्योंकि गाड़ी में काफी गर्मी थी. जर्मनी के एक व्यक्ति को इन लोगों को अवैध तरीके से ब्रिटेन में लाने के संदेह में गिरफ्तार किया गया है. अपने ट्रक में लोगों को देख कर वह काफी हैरान था और उसने जांच में हमारी मदद की." यूरोप की इस लॉरी को पुलिस ने जब्त कर लिया है.

इससे पहले शनिवार को ब्रिटेन के एक बंदरगाह पर स्टाफ को एक शिपिंग कंटेनर में से चिल्लाने की आवाजें सुनाई दी. इस कंटेनर में 34 अफगान सिख थे. और सभी पानी की कमी, शरीर का तापमान कम होने और हवा की कमी से जूझ रहे थे. इतना ही नहीं बेल्जियम से आने के दौरान एक आदमी की मौत भी हो गई. मंगलवार को उत्तरी आयरलैंड की पुलिस ने बताया कि उन्होंने हत्या के संदेह में एक आदमी को गिरफ्तार किया है.

इन मामलों ने एक बार फिर ब्रिटेन की सीमा सुरक्षा पर सवाल उठाए हैं और इस पर भी कि किस तरह दुनिया के दूर देशों से लोग जान जोखिम में उठा कर ब्रिटेन अवैध तरीके से आने की कोशिश करते हैं.

हत्या का संदेह

उत्तरी आयरलैंड की पुलिस ने मंगलवार को बताया कि उन्होंने एक 34 साल के आदमी को हत्या के संदेह में गिरफ्तार किया है. शिपिंग कंटेनर में मृत मिले अफगान सिख की हत्या के सिलसिले में पुलिस ने उसे पकड़ा है.

काबुल में धार्मिक उत्पीड़न की वजह से भागे इन इन सिखों की उम्र एक से 70 साल के बीच थी. टिलबरी डॉक्स के कंटेनर में मिले ये सभी लोग एकदम बीमार थे. 40 साल के मीत सिंह कपूर सेब्रुगे से उत्तरी सागर की यात्रा के दौरान मारे गए. उनके नौ और बारह साल के दो बच्चे भी कंटेनर में उनके साथ ही थे. मौत के कारणों का अभी पता नहीं चल सका है.

सभी प्रवासियों की जांच की जा रही है. ब्रिटेन के गृह मंत्रालय ने बताया, "सभी 34 लोग ब्रिटेन में शरण के लिए आवेदन करेंगे. फिलहाल हम उनके लिए घरों का इंतजाम कर रहे हैं और जरूरतमंदों को मदद भी. ब्रिटेन अपनी अंतरराष्ट्रीय जिम्मेदारी पूरी गंभीरता से स्वीकार करता है और उसका अच्छा इतिहास है कि उन सभी को सुरक्षा दी गई जिन्हें इसकी जरूरत थी."

ब्रिटेन शेंगेन समझौते में शामिल नहीं हुआ और इसके लिए उसने अवैध प्रवासियों की समस्या एक कारण बताया था. यूरोपीय संघ के 28 में से 22 सदस्य देशों ने साझा सीमा पर पासपोर्ट और वीजा की जांच खत्म कर दी है.

एएम/एमजे (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री