1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

'ब्रिटेन को आर्थिक मज़बूती देगी नई सरकार'

ब्रिटेन में नई सरकार ने वादा किया है कि वो तेज़ी से आर्थिक स्थिरता और मज़बूती हासिल करने का काम करेगी.ब्रिटेन के अभूतपूर्व आर्थिक संकट को ख़त्म करने का भी वादा. अहम नेताओं ने कहा नहीं टूटा गठबंधन का जोड़.

default

ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने प्रधानमंत्री के तौर पर पहले दिन कहा कि 1945 के बाद से ब्रिटेन की पहली गठबंधन सरकार स्थिर और मज़बूत होगी ताकि वह देश के आर्थिक संकट का सामना कर सके. कैमरन और उप प्रधानमंत्री निक क्लेग ने दावा किया है कि सरकार अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी.

बुधवार को कंज़र्वेटिव डेविड कैमरन और लिबरल डैमोक्रेटिक नेता निक क्लेग ने एक दूसरे पर चुटकी लेते हुए संवाददाताओं के सवाल का जवाब दिया और सरकार की नीतियों से अवगत किया. निक क्लेग ने इस सरकार को ऐतिहासिक बताते हुए इसे ब्रिटेन की राजनीति में इसे भारी बदलाव बताया.

दोनों ने माना कि इस वक्त ब्रिटिश सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती है देश की आर्थिक स्थिति. उन्हें किसी भी तरह से 11 फीसदी से ज़्यादा चल रहे बजट घाटे को कम करना है. प्रधानमंत्री ने कहा, "हाल के दिनों में किसी भी सरकार को ऐसे आर्थिक हालात में काम शुरू नहीं करना पड़ा है. हम जानते हैं कि हमें कई मुश्किल फैसले लेने होंगे. ये गठबंधन निश्चित ही हमारी राजनीति में ऐतिहासिक और बड़ा बदलाव होगा."

उप प्रधानमंत्री निक क्लेग ने पत्रकारों से कहा, "हमें सिर्फ़ सार्वजनिक वित्त व्यवस्था को ही नहीं बदलना होगा बल्कि ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था को पुरानी प्रणाली से हटकर स्थिर आधार देना होगा."

नई नीति

हालांकि कंज़र्वेटिव और लिबरल डैमोक्रेट्स में टैक्स, आप्रवास, परमाणु हथियारों सहित कई मुद्दों पर मतभेद हैं. लेकिन फिलहाल दोनों पार्टियों ने मिलकर एक नीति प्रस्तुत की है.

गठबंधन सरकार ने इस वित्त वर्ष में छह अरब पौंड का ख़र्चा कम करने की बात कही है. नए वित्त मंत्री जॉर्ज ऑसबॉर्न ने कहा, "स्थाई बजट घाटे को कम करने के लिए तेज़ी से काम किया जाएगा." विलियम हेग विदेश मंत्री के तौर पर अपनी पहली विदेश यात्रा के तहत अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन से मुलाकात करेंगे.

हालांकि अब भी कुछ हल्कों में इस गठबंधन के चलने पर संदेह है क्योंकि दोनों पार्टियों की विचारधारा काफी अलग है.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा मोंढे

संपादनः ओ सिंह

संबंधित सामग्री