1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

ब्रिटेन की सड़कों पर ड्राइवरलेस कारें

ब्रिटेन ने बिना ड्राइवर वाली कारों को सड़क पर उतरने की अनुमति दे दी है. सरकार को उम्मीद है कि बिना ड्राइवर वाली कारों से सड़क दुर्घटनाओं में भारी कमी आएगी. ब्रिटेन में 93 फीसदी सड़क हादसे इंसानी गलती से होते हैं.

ब्रिटेन की परिवहन मंत्री क्लेयर पेरी ने ड्राइवर रहित कारों के रोड टेस्ट की अनुमति देते हुए कहा, "हम आधिकारिक रूप से सेमी ऑटोमैटिक वाहनों के चार परीक्षणों की शुरुआत कर रहे हैं, यह ड्राइवर रहित तकनीक के रास्ते में पहला कदम है."

पेरी को उम्मीद है कि ड्राइवर रहित कारें सड़क हादसों को भी कम करेंगी, "ये सड़क सुरक्षा के लिए बहुत अच्छा है. फिलहाल 93 फीसदी दुर्घटनाएं ड्राइवर की गलती से होती है. यह संभावना भी है कि इससे लोगों को ज्यादा समय मिलेगा, हमें दिन में अतिरिक्त समय मिलेगा. इससे सड़क की क्षमता का बेहतर इस्तेमाल करने का मौका भी मिलेगा."

USA Google baut sein eigenes Auto

गूगल की ड्राइवरलेस कार

ड्राइवर रहित कारें अगली गर्मियों में लंदन ग्रीनविच जिले में टेस्ट की जाएंगी. इसके बाद इन्हें सेंट्रल इंग्लैंड में भी उतारा जाएगा. बैटरी से चलने वाली ये कारें एक बार में 64 किलोमीटर की दूरी तय कर सकेंगी. टेस्ट के दौरान रफ्तार करीब 23 किलोमीटर प्रतिघंटा रहेगी.

ब्रिटेन यूरोप का तीसरा बड़ा कार निर्माता देश है. सरकार को उम्मीद है कि ड्राइवर रहित कारों के मामले में वह शुरुआत से ही बढ़त बना सकता है. अमेरिका में दिग्गज अमेरिकी इंटरनेट कंपनी गूगल भी ड्राइवर रहित कारों का परीक्षण कर रही है. बाजार विश्लेषकों का अनु्मान है कि ड्राइवर रहित कारों का बाजार 2025 तक 900 अरब पाउंड का होगा और इसमें रोजगार पैदा करने की भी क्षमता होगी.

लेकिन एक सर्वे के मुताबिक ब्रिटेन के ज्यादातर लोग ड्राइवर रहित कारों को लेकर शंका में है. ड्राइवर रहित कारें आम कारों की तुलना में महंगी हैं. ब्रिटेन के आधे लोग ऐसी कारों के लिए पैसा खर्च नहीं करना चाहते. 16 फीसदी तो इन कारों को पूरी तरह नकार रहे हैं.

ओएसजे/आईबी (एएफपी)

DW.COM