1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

बोर्ड के ख़िलाफ़ अदालत जाएंगे मोदी

बीसीसीआई के ख़िलाफ़ अदालत का दरवाज़ा खटखटाएंगे ललित मोदी. 26 अप्रैल को होने वाली बोर्ड की गवर्निंग काउंसिल की बैठक को लेकर ठनी. बोर्ड ने कहा, लुकाछिपी का खेल बंद करें ललित मोदी.

default

25 अप्रैल को आईपीएल-3 का फ़ाइनल है और 26 अप्रैल को ललित मोदी का. बीसीसीआई ने 26 अप्रैल को आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की बैठक बुलाई है. आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी बैठक में जाने से इनकार कर चुके हैं, वह बैठक को आधिकारिक भी नहीं मान रहे हैं.

मोदी चाहते हैं कि बैठक एक मई को हो. लेकिन बोर्ड ने साफ़ कर दिया है कि बैठक 26 को ही होगी. बोर्ड के कड़े रुख़ के बाद अब तारों सितारों को क्रिकेट की दुनिया में लाने वाले मोदी की बारी है. गुरुवार को बीसीसीआई को चेतावनी देते हुए मोदी ने कहा कि वह बैठक को रद्द करवाने के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट को दरवाज़ा खटखटाएंगे.

मोदी ने संकेत दिए हैं कि बीसीसीआई अगर नहीं मानी तो शुक्रवार को वह किसी बड़े वकील के साथ हाईकोर्ट जाएंगे. मोदी अदालत को दलील देंगे कि सोमवार को होने वाली बैठक अवैध है, लिहाज़ा इसे रोका जाए. मोदी का कहना है कि आईपीएल के संबंध में बैठक बुलाने का ह़क सिर्फ़ उन्हें है और किसी को नहीं.

अपने लाल की बग़ावत से बीसीसीआई भी खीझ गई है. गुरुवार को पूर्व क्रिकेटर और गवर्निंग काउंसिल के सदस्य मंसूर अली खान पटौदी ने कहा कि अगर मोदी लुका छिपी का खेल खेलते रहें, तो उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा.

इस बीच बीसीसीआई के अध्यक्ष शशांक मनोहर ने मोदी की चेतावनियों को कोरी धमकी करार दिया है. मोदी चेतावनी दे चुके हैं कि अगर बोर्ड ने उन्हें ज़्यादा तंग किया तो वह आईपीएल की टीमों में हिस्सेदार सभी लोगों के नाम सार्वजनिक कर देंगे. सूत्रों का कहना है कि हिस्सेदारों में बोर्ड के सदस्य और कई बड़े नेता शामिल हैं. मोदी की चेतावनी से साफ़ संकेत मिलता है कि आईपीएल की आड़ में जमकर भ्रष्टाचार और मुनाफ़ाखोरी का खेल खेला गया है.

रिपोर्ट: पीटीआई/ओ सिंह

संपादन: उज्ज्वल भट्टाचार्य