1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

बॉलीवुड में अक्षर प्रेम

बॉलीवुड में फिल्मकार किसी खास अक्षर को अपने लिए लकी मानते रहे है और इसी श्रृखंला में सुभाष घई की 25 अप्रैल को रिलीज होने वाली फिल्म कांची का नाम भी शामिल होने जा रहा है.

राजकपूर के बाद बॉलीवुड के दूसरे शो मैन कहे जाने वाले सुभाष घई अपनी फिल्मों की कामयाबी के लिए 'म' अक्षर वाली नायिकाओं को शुभ मानते है. उन्होंने अपनी नयी फिल्म कांची में 'म' अक्षर वाली अभिनेत्री मिष्ठी का चुनाव किया है.

सुभाष घई इससे पहले भी अपनी फिल्मों में 'म' अक्षर वाली अभिनेत्रियों को रखते आए हैं. फिल्म हीरो और मेरी जंग में मीनाक्षी शेषाद्री ने तो फिल्म राम लखन और खलनायक में माधुरी दीक्षित ने भूमिका निभाई. फिर फिल्म परदेस में महिमा चौधरी ने, सौदागर में मनीषा कोइराला ने और फिल्म शादी से पहले में मल्लिका सेहरावत ने काम किया है. इतना ही नहीं उनके बैनर का नाम भी 'म' से ही मुक्ता आर्ट्स है.

राजकुमार संतोषी भी सुभाष घई की तरह ही 'म' अक्षर वाली अभिनेत्रियों को अपनी फिल्म के लिए शुभ मानते हैं. फिल्म घायल में मीनाक्षी शेषाद्री और मौसमी चटर्जी ने तो दामिनी में मीनाक्षी शेषाद्री ने काम किया है. इतना ही नहीं उनकी फिल्म लज्जा में तो तीन 'म' अक्षर वाली अभिनेत्रियों महिमा चौधरी, मनीषा कोइराला और माधुरी दीक्षित ने काम किया. फिल्म चाइना गेट और घातक में ममता कुलकर्णी ने राजकुमार संतोषी के साथ काम किया.

अक्षर के मोह में फंसने वाले निर्माता निर्देशकों में सुभाष घई और राज कुमार संतोषी के अलावा सावन कुमार, जे ओम प्रकाश, राकेश रोशन, करण जौहर और एकता कपूर भी शामिल हैं. प्रसिद्ध निर्माता निर्देशक जे ओम प्रकाश का 'अ' प्रेम किसी से छुपा नही है. उन्होंने सबसे पहले 1961 मे आस का पंछी बनाई थी जिसके हिट होने के बाद उन्हें 'अ' अक्षर से लगाव हो गया. इसके बाद उनकी लगभग सभी फिल्में 'अ' अक्षर वाली रहीं. इन फिल्मों में आपकी कसम, आक्रमण, अपनापन, आशिक हूं बहारों का, आशा आसपास, अपना बना लो, अर्पण, आसरा प्यार दा, आखिर क्यों और आपके साथ जैसी फिल्में शामिल हैं.

Indien Film Kino Dedh Ishiya Schauspielerin Madhuri

माधुरी दीक्षित नेने

प्रसिद्ध निर्माता निर्देशक राकेश रोशन अंग्रेजी के 'के' अक्षर को अपनी फिल्मों के लिए लकी मानते हैं. 'के' अक्षर से उन्होंने कामचोर, खुदगर्ज, खून भरी मांग, कालाबाजार, खेल, किंगअंकल, किशन कन्हैया, कोयला, कारोबार, करन अर्जुन, कहो ना प्यार है. कोई मिल गया और काईट्स जैसी फिल्में बनायी है.

एकता कपूर के लिए 'क' अक्षर लकी रहा है. उनके टीवी सीरियल क अक्षर से ही शुरू होते हैं, जिनमें कहानी घर घर की, क्योंकि सास भी कभी बहू थी सहित कई सीरियल हैं. इसके अलावा उनकी बनाई फिल्में भी 'क' अक्षर से ही शुरू होती हैं जैसे क्योंकि मैं झूठ नहीं बोलता, कोई आप सा, कृष्णा कॉटेज, क्या कूल हैं हम और कुछ तो है शामिल हैं. 'क' प्रेम में करण जौहर भी शामिल हैं.

फिल्मकार सावन कुमार को 'स' से लगाव है. फिल्म साजन बिना सुहागन, साजन की सहेली, सौतन, सौतन की बेटी. सनम बेवफा सभी इसी अक्षर से शुरू होती हैं. वहीं रमेश सिप्पी को स का अंग्रेजी संस्करण 'एस' पसंद है. सीता और गीता, शोले, शान, शक्ति और सागर इनका उदाहरण हैं. उधर डेविड धवन और गोविंदा नंबर एक को शुभ मानते हैं. इन दोनों की जोडियों की कुली नं.1, हीरो नं.1 और जोड़ी नं.1 हिट रही हैं.

एएम/एमजे (वार्ता)