1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

बैंसला से बातचीत बेनतीजा, आंदोलन जारी

नौकरी में शिक्षण संस्थानों में आरक्षण की मांग के लिए विरोध प्रदर्शनों का सहारा ले गूजर समुदाय और राजस्थान सरकार के बीच ताजा दौर की बातचीत गतिरोध तोड़ने में नाकाम रही है. राजस्थान के कई इलाकों में सड़क और रेल यातायात ठप.

default

राजस्थान में गूजर समुदाय नौकरियों में पांच फीसदी आरक्षण देने की मांग कर रहा है. राज्य सरकार ने आरक्षण की मांग पर विचार के लिए एक समिति बनाने का प्रस्ताव रखा लेकिन गूजर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला ने सरकार की इस पेशकश को खारिज कर दिया. सरकार ने बैंसला से कहा था कि वह भी इस समिति में एक सदस्य के रूप में शामिल होंगे लेकिन इस पर बात नहीं बन पाई.

तेवरों में नरमी न आने का संकेत देते हुए कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा, "मैं इस समस्या का स्थायी समाधान चाहता हूं क्योंकि चीजों को अधर में लटकाना नहीं चाहता." बैंसला ने चेतावनी दी है कि अगर उनकी मांगों को नहीं माना गया तो वह आंदोलन को और तेज कर देंगे.

Ministerpräsident des indischen Bundesstaates Rajasthan Ashok Gahlot

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

ऊर्जा मंत्री जितेंद्र सिंह सरकार के दूत के रूप में गूजर नेताओं से मिले और उन्होंने आश्वासन दिया कि अशोक गहलोत सरकार गूजरों को आरक्षण देने के लिए प्रतिबद्ध है लेकिन उससे पहले गूजर समुदाय के बारे में जरूरी आंकड़े जुटाने होंगे.

सरकार ने इस काम के लिए समिति बनाने का भी प्रस्ताव रखा जिसमें बैंसला भी शामिल होंगे लेकिन इस पर बात नहीं बनी. सरकार और गूजरों के बीच पहले दौर की बातचीत पीलूकापुरा में हुई जो भरतपुर से करीब 11 किलोमीटर दूर है.

गूजर आंदोलन की आंच सबसे ज्यादा यहीं महसूस हो रही है. लेकिन बैंसला ने बातचीत के बाद उसे बेनतीजा करार दिया और कहा कि आंदोलन वापस तभी लिया जाएगा जब सरकार उनकी मांगों को मान लेगी.

गूजर आंदोलन सातवें दिन में प्रवेश कर गया है और उन्होंने राज्य में सड़क और रेल मार्गों पर जाम लगा दिया है. सर्किल अधिकरी मानवेंद्र सिंह के मुताबिक प्रदर्शनकारी बाड़ी इलाके में रेल लाइनों को बाधित करने की कोशिश कर रहे थे लेकिन सुरक्षा बलों की चौकसी की वजह से स्थिति को काबू में कर लिया गया.

गूजर आंदोलन के चलते जयपुर-दिल्ली, दिल्ली-मुंबई, जयपुर-कोटा और अजमे-इंदौर ट्रैक पर ट्रेनों की आवाजाही नहीं हो पा रही है. इससे पहले भी गूजर समुदाय ने अपनी जाति को अनुसूचित जनजाति का दर्जा दिलाए जाने की मांग को लेकर आंदोलन छेड़ा था.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ओ सिंह